delete

मृतकों का टीला! मोहन जोदड़ो के बारे में 10 अनजानी बातें

By: Inextlive | Publish Date: Wed 08-Jun-2016 01:51:05   |  Modified Date: Wed 08-Jun-2016 04:02:34
- +
मृतकों का टीला! मोहन जोदड़ो के बारे में 10 अनजानी बातें
इन दिनों आशुतोष गोवारिकर की नई फिल्‍म 'मोहेंजो दारो' चर्चा में है। हम में से कम ही लोग मुअन जो दड़ो जिसे कुछ लोग मोहनजोदड़ो कहते हैं, के बारे में जानते हैं। यह वो बस्‍ती थी जहां दुनिया की सबसे प्राचीन सभ्‍यताओं में से एक सिंधु घाटी कालीन सभ्‍यता का जन्‍म हुआ। यह जगह अब पाकिस्‍तान में है। तो आइए जानते हैं मुअन जो दड़ो से जुड़े ऐसे तथ्‍यों को जिनसे आप रह गए अनजान...



1.
5000 साल से भी पुरानी सभ्‍यता मुअन जो दड़ो की खोज 1921 में हुई थी। इसके बाद कई दशकों तक अनेकों आर्कियोलॉजिस्‍ट यहां आकर सभ्‍यता से जुड़े तथ्‍यों व सबूतों की छानबीन करते रहे। 1980 में इसे यूनेस्को विश्व धरोहर घोषित किया गया।


2. यहाँ पर खुदाई के समय बड़ी मात्रा मे ईमारतें, धातुओं की मूर्तियाँ, और मुहरें आदि मिले। पिछले 100 वर्षों में अब तक इस शहर के एक-तिहाई भाग की ही खुदाई हो सकी है, और अब वह भी बंद हो चुकी है। माना जाता है कि यह शहर 200 हेक्टेयर क्षेत्र में फैला था। यहाँ दुनिया का प्रथम स्नानघर मिला है जिसका नाम बृहत्स्नानागार है और अंग्रेजी में Great Bath कहते हैं।


3. 1940 में खुदाई के दौरान पुरातात्विक विभाग के एमएस वत्स को एक शिव लिंग मिला जो लगभग 5000 पुराना है। शिवजी को पशुपतिनाथ भी कहते हैं। यानी कि ये लोग पशुपतिनाथ की पूजा करते थे।


4. मुअन जो दड़ो की सड़कों और गलियों में आप आज भी घूम सकते हैं। यह शहर जहाँ था आज भी वहीं है। यहाँ की दीवारें आज भी मजबूत हैं। इस शहर के किसी सुनसान मार्ग पर कान देकर उस बैलगाड़ी की रून-झुन सुन सकते हैं जिसे आपने पुरातत्व की तस्‍वीरो में देखा है।


5. इस सभ्‍यता में पक्‍की ईंटों की दीवारें थीं। साथ ही 90 डिग्री समकोण पर काटती हुई सड़कें थीं। यहां ढकी हुई नालिंया भी थीं।


6. दुनिया में सूत के दो सबसे पुराने कपड़ों में से एक का नमूना यहाँ पर ही मिला था। खुदाई मे यहाँ कपडो की रंगाई करने के लिये एक कारखाना भी पाया गया है।


7. इतिहासकारों का कहना है कि मुअन जो दड़ो सिंघु घाटी सभ्यता में पहली संस्कृति है जो कि कुएँ खोद कर भू-जल तक पहुँची थी। मुअन जो दड़ो में करीब 700 कुएँ थे।


8. मुअन जो दड़ो सभ्‍यता की लिपी आज तक कोई पढ़ व समझ नहीं सका।


9. मुअन जो दड़ो का संग्रहालय भी है। जिसमें कि मुख्य वस्तुएँ कराची, लाहौर, दिल्ली और लंदन में हैं। यहाँ काला पड़ गया गेहूँ, ताँबे और काँसे के बर्तन, मुहरें, वाद्य भी रखे गए हैं।


10. यह सभ्‍यता विलुप्‍त कैसे हुई यह अभी तक कोई नहीं जान सका। कुछ लोगों का कहना है महामारी के चलते ये लोग मर गए थे तो कुछ कहते हैं कि आर्य ने यहां आकर तबाही मचाई। खैर अभी तक कुछ प्रमाणित नहीं हो सका है। मोहनजोदड़ो या मुअन जो दड़ो का सिन्धी भाषा में अर्थ होता है 'मृतकों का टीला'।


11. मोहनजोदड़ो सभ्‍यता पर आधारित एक फिल्‍म (Mohenjo Daro) बन रही है। जिसमें ऋतिक रोशन और पूजा हेगड़े लीड रोल में नजर आएंगे। फिल्‍म का निर्देशन आशुतोष गोविरकर कर रहे हैं। फिलहाल फिल्‍म का पोस्‍टर रिलीज हो गया है।

Interesting News inextlive from Interesting News Desk