हवाई जहाज में क्रू मेंबर्स किस कोड वर्ड में बात करते हैं, यहां जानिए

By: Inextlive | Publish Date: Mon 10-Apr-2017 03:46:05
A- A+
हवाई जहाज में क्रू मेंबर्स किस कोड वर्ड में बात करते हैं, यहां जानिए
किसी भी फ्लाइट में उड़ान के दौरान एयरहोस्‍टेस खास कोडवर्ड में बातें करती हैं। ये बातें पैंसेंजर के समझ में बिल्‍कुल भी नहीं आती। दरअसल यह एविएशन की भाषा होती है जिसे केबिन क्रू जॉर्गन कहते हैं। इस जॉर्गन के जरिए एयर अटेंडेंट कम शब्‍दों में ही मतलब भर की बात कर लेते हैं। तो आइए जानते हैं इन कोडवर्ड का क्‍या होता है मतलब....


क्रॉस चेक एंड क्रॉस चेक कम्‍प्‍लीट :

फलाइट के टेक ऑफ करने से पहले एयर अटेंडेंट की जिम्‍मेदारी होती है कि वह विमान के दरवाजों को अच्‍छी तरह से बंद कर दे। ऐसे में फ्लाइट में मौजूद एयर होस्‍टेस क्रॉस चेक करने को कहती हैं और दूसरी तरफ से जवाब आता है क्रॉस चेक कंप्‍लीट...यानी कि दरवाजे बंद हो चुके हैं और विमान उड़ाने के लिए तैयार है।


आल कॉल :
फ्लाइट में मौजूद हर कर्मचारी को यह सुनिश्‍ख्‍ित करना पड़ता है कि विमान उड़ाने के लिए तैयार है कि नहीं। दरवाजे बंद होने के बाद जिम्‍मेदारी आती है पायलट की। टेक ऑफ से पहले पायलट आल कॉल कहता है, यानी कि क्रू मेंबर्स और अन्‍य स्‍टॉफ अपनी-अपनी पोजीशन संभाल लें। यह टेलिफोन इंटरकॉम के जरिए या कांफ्रेंस स्‍टाईल में होता है।


जंप सीट :
विमान में फ्लाइट अटेंडेंट्स की एक अलग सीट होती है। जिसे स्‍माल सीट भी कहते हैं। किसी कारण के चलते फ्लाइट स्‍ट्रुवर्ड्स या एयर होस्‍टेस अपनी सीट से खड़े हो जाते हैं तो उनकी सीट अपने आप बंद हो जाती है। सीट से उठने का मतलब होता है जंप करना। ऐसे में उन्‍हें इंटकॉम के जरिए एक मैसेज देना पड़ता है, 'जंप सीट'


बल्‍कहेड :
बल्‍कहेड का मतलब किसी एयरक्राफ्ट में डिवाइडिंग वॉल से होता है। यह गैलरी या लवेटरी से केबिन सीटिंग को अलग करता है। कुछ पैसेंजर एक्‍स्‍ट्रा लेगरूम के चलते इस पंक्‍ित को पसंद करते हैं।


एक्‍सटेंडर :
उड़ान भरने से पहले एयर होस्‍टेस सभी पैसेंजर को सीट बेल्‍ट बांधने के लिए देती हैं। कुछ पैसेंजर इतने भारी-भरकम होते हैं कि वह नॉर्मल सीट बेल्‍ट नहीं बांध पाते हैं। ऐसे यात्रियों को एक सीट बेल्‍ट एक्‍सटेंशन मिलता है। इसे ही शॉर्ट में एक्‍सटेंडर कहा जाता है। इससे बेल्‍ट की लंबाई करीब 25 इंच बढ़ जाती है।


स्‍पिनर :
अक्‍सर फ्लाइट्स में कुछ ऐसे पैसेंजर आ जाते हैं उनके लिए सीट खाली नहीं होती। उस वक्‍त गेट एजेंट द्वारा एयर क्रॉफ्ट में खाली सीट का इंतजाम करने के लिए कहा जाता है। ऐसे यात्री को स्‍पिनर कहते हैं।


पैक्‍स :
विमान में यात्रा करने वाले पैसेंजर्स को फ्लाइट अटेंडेंट 'पैक्‍स' नाम से भी बुलाते हैं।


लैंडिंग लिप्‍स :
विमान लैंडिंग के दौरान इंटरकॉम के जरिए सभी एयर होस्‍टेस को 'लैंडिंग लिप्‍स' का मैसेज भेजा जाता है। यानी कि सभी एयर होस्‍टेस को मेकअप करना होता है।

Interesting News inextlive from Interesting News Desk

खबरें फटाफट