टीचर्स के काम को आसान बनाएंगे टूल्स

By: Chandra Mohan Mishra | Publish Date: Sun 01-Oct-2017 11:05:37
A- A+
टीचर्स के काम को आसान बनाएंगे टूल्स
आजकल एजुकेशन के क्षेत्र में भी टेक्नोलॉजी का भरपूर इस्तेमाल होने लगा है। टीचर्स के लिए भी कई ऐसे टूल्स आ गए हैं, जिनसे वे लेसंस प्लान तैयार कर सकते हैं, स्टूडेंट्स के एक पॉजिटिव लर्निंग एंवॉयर्नमेंट तैयार कर सकते हैं। टीचर्स डे के मौके पर टीचर्स के लिए कुछ ऐसे ही टूल्स, जो हो सकते हैं उपयोगी..

1. इमेज

टीचर इस टूल का इस्तेमाल खूबसूरत प्रजेंटेशन तैयार करने के लिए कर सकते हैं। यह इस्तेमाल करने में भी आसान है। एक ही प्रजेंटेशन में अलग-अलग चीजों को समाहित कर स्टूडेंट्स को बेहतर तरीके से किसी सब्जेक्ट को समझा सकते हैं। टीचर के साथ स्टूडेंट्स भी इसका इस्तेमाल अलग-अलग टॉपिक्स से संबंधित प्रजेंटेशन बनाने और नॉलेज को प्रदर्शित करने के लिए कर सकते हैं। अच्छी बात यह है कि टीचर स्टूडेंट्स के प्रजेंटेशन की प्रोग्रेस को ट्रैक कर सकते हैं। यह टूल मल्टीपल डिवाइस को सपोर्ट करता है। प्रजेंटेशन को कंप्यूटर, लैपटॉप, टैबलेट या फिर स्मार्टफोन पर देखने के साथ उसे एडिट भी कर सकते हैं। क्लाउड बेस्ड प्रजेंटेशन सॉफ्टवेयर की वजह से इसे कहीं भी एक्सेस किया जा सकता है। इस्तेमाल करने के लिए इसे फेसबुक या फिर जीमेल एकाउंट से लॉगइन करना होगा।

www.emaze.com

 

2. प्लानबोर्ड

अगर टीचर अलग-अलग क्लास में भिन्न सब्जेक्ट पढ़ाते हैं, तो उनके लिए यह प्रोडक्टिव टूल उपयोगी साबित हो सकता है। प्लानबोर्ड की मदद से टीचर अलग-अलग क्लास के लिए लेसंस प्लान बनाने के साथ-साथ टाइम टेबल भी तैयार कर सकते हैं। टेक्स्ट एडिटर की मदद से बुलेट लिस्ट और अलग-अलग सेक्शन तैयार कर सकते हैं। इसके साथ टेक्स्ट के साइज और कलर भी फॉर्मेट करने की सुविधा है। इससे इंफॉर्मेशन को खोजना ज्यादा आसान हो जाएगा। क्लास के दौरान अगर बाहरी रिसोर्स की जरूरत पड़ती है, तो यहां सब्जेक्ट से रिलेटेड वीडियो और फाइल की लिंक अटैच करने की सुविधा है। यह एंड्रॉयड और आइओएस डिवाइस के लिए उपलब्ध है।

https://www.chalk.com/planboard/

 

कमाल है! अब कैश काउंटर पर स्‍माइल करें और हो जाएगा ऑटोमेटिक पेमेंट

 

3.राइट एबाउट

क्लासरूम में कई ऐसे स्टूडेंट्स भी होते हैं, जिनकी राइटिंग में रुचि नहीं होती है। टीचर ऐसे स्टूडेंट्स के लिए राइट एबाउट टूल का इस्तेमाल कर सकते हैं। इसकी मदद से स्टूडेंट्स क्लासरूम से बाहर अपनी पसंदीदा टॉपिक्स पर डिजिटली लिख सकते हैं। इस प्लेटफॉर्म की खासियत है कि स्टूडेंट्स को तुरंत दूसरों से फीडबैक भी मिलता है। यहां पर वे अपने कार्य को पब्लिश भी कर सकते हैं। टीचर यहां स्टूडेंट्स के विचारों को मेंटर कर सकते हैं और उन्हें सलाह भी दे सकते हैं। इसमें यूनिट्स ऐंड लेसंस, फ्री च्वाइस ऐंड Creative राइटिंग, जर्नलिंग ऐंड क्विक राइट्स, कंटेंट एरिया राइटिंग, राइटिंग असाइनमेंट, प्रोजेक्ट ऐंड पोर्टपोलियोज, स्टोरी टेलिंग जैसे टूल्स भी दिए गए हैं। इसे फ्री में साइन-इन किया जा सकता है।

https://www.writeabout.com/

 

ये टॉप 5 एंटीवायरस आपके स्‍मार्टफोन के लिए हैं रामबाण, यानि वायरस का बाप भी नहीं बचेगा

 

4.प्लेगस्कैन

ऐसे स्टूडेंट्स की आज कमी नहीं है, जो अपना ऑरिजनल वर्क नहीं करते हैं और इसमें दूसरे सोर्स की मदद ले लेते हैं या फिर कॉपी-पेस्ट करते है। टीचर भी कई बार पकड़ नहीं पाते हैं कि स्टूडेंट्स ने ऐसा किया भी होगा, लेकिन इस टूल की मदद से टीचर पता लगा सकते हैं कि स्टूडेंट्स द्वारा किया गया कार्य ऑरिजनल है या नहीं। इस टूल का इस्तेमाल करना भी आसान है। इसे इस्तेमाल करने के लिए लॉग-इन करना होगा।

https://www.plagscan.com/

 

FB ऐप में दिखा WhatsApp बटन, जानिए Facebook का फ्यूचर प्‍लान

 

Technology News inextlive from Technology News Desk

खबरें फटाफट