नेपाल हुआ लाल! चीन के साथ गर्मजोशी, 5 वजहें जिनसे जम सकती है भारत-नेपाल रिश्‍तों पर बर्फ

By: Satyendra Singh | Publish Date: Wed 13-Dec-2017 01:45:59
A- A+
नेपाल हुआ लाल! चीन के साथ गर्मजोशी, 5 वजहें जिनसे जम सकती है भारत-नेपाल रिश्‍तों पर बर्फ
नेपाल में वामपंथी गठबंधन की भारी जीत भारत के लिए नई कूटनीतिक चुनौती साबित हो सकती है। नेपाल के वामपंथी दलों का झुकाव चीन की ओर रहा है। ऐसे में नेपाल में चीन की गतिविधियां बढ़ सकती हैं। मालदीव और चीन की बढ़ती नजदीकी पहले से ही भारत के लिए सिरदर्द बनी हुई है।

1- भारत समर्थित पार्टियों की करारी हार
नेपाली संसद के लिए हुए सीधे चुनाव में वाम गठबंधन अभी तक 165 में से 113 सीटें जीत चुका है, जबकि भारत समर्थक माने जाने वाले नेपाली कांग्र्रेस को महज 21 सीटों से ही संतोष करना पड़ रहा है। ऐसे में नेपाल के पूर्व प्रधानमंत्री केपी ओली के नेतृत्व में इस महीने के अंत तक वामपंथी दलों की सरकार बननी तय मानी जा रही है।
nepal election, nepal election 2074, nepal election 2017, nepal india relation, nepal china

नेपाल के जरिये भी इंडिया को घेरने में जुटा चीन

2- ओली सरकार गिराने की पीछे मानते हैं भारत का हाथ
2015 में ओली की सरकार नौ महीने में ही संसद में बहुमत नहीं साबित करने के कारण गिर गई थी। तब आरोप लगा था कि ओली की सरकार गिराने के लिए पीछे भारत का हाथ है।
nepal election, nepal election 2074, nepal election 2017, nepal india relation, nepal china

डुबो देगा नेपाल का पानी!

3- मधेशी आंदोलन के लिए भारत को मानते हैं दोषी
यही नहीं, ओली की सरकार के दौरान प्रस्तावित संविधान के खिलाफ तराई के इलाकों में प्रबल मधेशी आंदोलन उठ खड़ा हुआ था। नेपाल में वाम दल इसके लिए भी भारत को जिम्मेदार ठहराते हैं।
nepal election, nepal election 2074, nepal election 2017, nepal india relation, nepal china

गजब! पाकिस्‍तान और नेपाल से भी घटिया इंटरनेट स्‍पीड मिलती है भारत में

4- ट्रकों की आवाजाही रुकने से रिश्‍ते हुए थे खराब
मधेशी आंदोलन के दौरान ट्रकों की आवाजाही पर रोक लगाने से ओली सरकार के भारत के साथ रिश्ते सबसे निचले स्तर पर आ गए थे। इसके बाद केपी ओली ने चीन की तरफ हाथ बढ़ाया।
nepal election, nepal election 2074, nepal election 2017, nepal india relation, nepal china

नेपाल से बिहार में आ रही गांजे की खेप

5- नेपाल की हरसंभव मदद को चीन है तैयार
भारत को घेरने की कोशिश में जुटा चीन नेपाल की भारत पर निर्भरता खत्म करने के लिए हरसंभव मदद को तैयार है। ऐसे में आशंका है कि केपी ओली की नई सरकार भारत की कीमत पर चीन के साथ नए सिरे से दोस्ती का हाथ बढ़ा सकती है।
nepal election, nepal election 2074, nepal election 2017, nepal india relation, nepal china

एक सींग वाला गैंडा नेपाल से बहकर भारत पहुंचा

वामपंथी नेताओं से व्‍यक्तिगत रिश्‍तों से ही उम्‍मीद
भारत के लिए राहत की बात इतनी है कि भले ही सीधे चुनाव में नेपाली कांग्र्रेस तीसरे नंबर पर खिसक गई हो, लेकिन अप्रत्यक्ष चुनाव में उसे अधिक सीटें मिलने की उम्मीद है। नेपाली संसद में 111 सीटें अप्रत्यक्ष चुनाव से भरी जाती है। यही नहीं, पहली बार 21 मधेशी नेता भी संसद में पहुंच रहे हैं। ऐसे में एक मजबूत विपक्ष वामपंथी दलों की मनमानी को रोकने में सफल हो सकता है। इसके अलावा भारत की ओर से नेपाल के वामपंथियों को व्यक्तिगत संबंधों के आधार पर साधने की भी कोशिश शुरू हो गई है। बताया जाता है कि भाजपा के राष्ट्रीय महासचिव राम माधव के केपी ओली के साथ बहुत अच्छे संबंध है। वामपंथी दलों की जीत के संकेत मिलते ही राम माधव ने ट्विटर पर उन्हें जीत की बधाई भी दे दी। इसी तरह से दूसरे वामपंथी दल के नेता पुष्प कमल दहल प्रचंड के भी भारतीय नेताओं के साथ नजदीकी रिश्ते हैं। भारत की कोशिश इन व्यक्तिगत संबंधों के सहारे नेपाल में कूटनीति को साधने की होगी।
nepal election, nepal election 2074, nepal election 2017, nepal india relation, nepal china

7 साल की इस देवी के दर्शन के लिए उमडती है भक्‍तों की भीड़, PM भी ले चुके आशीर्वाद

Report by : नीलू रंजन, नई दिल्ली

International News inextlive from World News Desk