A4 सीरीज के बारे में बात करने से पहले जरा कागज की मॉडर्न दुनिया के बारे में बेसिक बातें जान लें, तो आगे की कहानी मजेदार लगेगी। दुनिया भर में ऑफिशियल और घरेलू स्तर पर प्रिंटिंग के लिए स्टैंडर्ड साइज वाले ऐसे कागजों की शुरुआत बीसवीं शताब्दी में हुई और धीरे-धीरे यह स्टैंडर्ड साइज पूरी दुनिया के लिए ही एक ग्लोबल स्टैंडर्ड के रूप में फेमस हो गई। वर्ल्‍ड में ISO 216 नाम का इंटरनेशनल पेपर स्टैंडर्ड फॉलो किया जाता है। यह पेपर स्टैंडर्ड जर्मनी के DIN 476 स्टैंडर्ड पर आधारित है। दुनिया भर में ISO 216 स्टैंडर्ड पर बने कागजों में A, B और C सीरीज वाली पेपर शीट ही सबसे ज्‍यादा इस्तेमाल की जाती हैं। इनमें भी A सीरीज सबसे ज्यादा पॉपुलर है। ए सीरीज के कागजों में A0 से लेकर A8 तक आकार वाले कागज बनाए जाते हैं। वैसे ज्यादातर देशों में A4, A3 और A2 साइज वाली पेपर शीट ही सबसे ज्‍यादा यूज होती हैं। A1 और A0 साइज वाले कागज तो बहुत रेयर ही इस्तेमाल में आते हैं।

a4 पेपर यूज तो रोज करते हैं,पर a सीरीज के हर कागज की चौंकाने वाली कहानी सुनी है कभी?

ऐसा फोन जो न देखा - न सुना, रोटेटिंग कैमरों वाले Nokia 10 का डिजाइन हुआ लीक?

A सीरीज के हर एक कागज के बीच है एक खास कनेक्शन

आपको बता दें कि सबसे ज्यादा यूज होने वाले A सीरीज के कागजों के बीच एक अलग ही मैथमेटिकल कनेक्शन है। इसके सभी पेपर साइज को इस आकार और अनुपात में डिजाइन किया गया है कि आप किसी भी कागज को बीच से आधा काटे तो आपको अगले लेवल की 2 एक बराबर आकार वाली पेपर शीट मिलेंगी। उदाहरण में समझें तो... अगर आप A0 सीरीज की किसी पेपर शीट को काटकर आधा करें तो आपको A1 साइज वाले दो कागज मिलेंगे। इन दोनों शीट का आकार बिल्कुल एक बराबर होगा और अगर आप यह A2 सीट को काटकर आधा करें तो आपको एक ही साइज की दो A3 शीट मिलेंगी। इसके बाद अगर आप A3 शीट को आधा करें तो आपको बराबर साइज की दो A4 शीट मिलेंगी और यही क्रम आगे भी चलता रहेगा।

अब अपने स्मार्टफोन में लगाइए कंप्यूटर जितनी हार्ड डिस्क! यह है स्‍मार्ट तरीका

इस सीरीज का हर एक कागज अनुपात में होता है एक बराबर

अगर आप इस सीरीज के किसी भी कागज को आधा करें तो आपको उसके आगे लेवल वाली दो बराबर पेपर शीट मिलेंगी। यह बात तो आप जान गए, लेकिन इसमें भी एक खास बात यह है कि इस सीरीज में कागजों का आकार भले ही लगातार बदलता (छोटा होता) रहेगा लेकिन उनका अनुपात हमेशा ही एक रहेगा । यानी कि इस सीरीज के हर एक कागज की लंबाई और उसकी चौड़ाई का अनुपात पूरी सीरीज में बिल्कुल एक बराबर होगा और यह अनुपात है 1.414

a4 पेपर यूज तो रोज करते हैं,पर a सीरीज के हर कागज की चौंकाने वाली कहानी सुनी है कभी?

यह स्मार्टफोन है या एक्सरे मशीन जो 4 इंच मोटी दीवार के पार भी देख सकता है!

हर एक कागज का अनुपात कैसे होता है एक बराबर

A सीरीज का हर एक कागज अनुपात के मामले में एक जैसा होता है लेकिन ये होता कैसे है? चलिए समझते हैं। A सीरीज के सबसे बड़े आकार के कागज यानी A0 शीट का साइज होता है 46.8 इंच लंबाई और 33.1 चौड़ाई। मिलीमीटर में इसका साइज है 841MM चौंड़ाई और 1189MM और इस कागज का एरिया यानी कि क्षेत्रफल होता है 1 स्क्वायर मीटर। अब अगर आप 1189 को 841 से विभाजित करें तो आपको रिजल्‍ट में 1.414। यही आंकड़ा A सीरीज के हर एक कागज का फिक्‍स अनुपात है।

कान में मोबाइल या इयरफोन नहीं, सिर्फ उंगली लगाकर होगी कॉलिंग, ये है तरीका

कागजों का कॉमन अनुपात से हमारा काम बनता है आसान

Aसाइज पेपर सीरीज में कागजों की लंबाई और चौड़ाई का अनुपात एक बराबर रखने में काफी मैथमेटिकल कैलकुलेशन है लेकिन यह हमारा काम बहुत आसान बनाता है। अगर पेपर्स का अनुपात एक जैसा ना हो तो किसी भी बड़े आकार के कागज पर छपे या लिखे हुए मैटर को उसके आधे आकार के कागज पर लाने के लिए बहुत ज्यादा जद्दोजहद करनी पड़ेगा। एक जैसा अनुपात होने के कारण फोटो एडिटिंग या फोटो कॉपी करने वाला कोई भी व्यक्ति उस टेक्स्ट मैटर या फोटो को आसानी से छोटा या बड़ा कर सकता है।

Technology News inextlive from Technology News Desk