क्यों किया मानहानि का मुकदमा?
इससे पहले दिन में सिंघवी ने वित्त मंत्री अरुण जेटली की ओर से उद्योगपतियों के कर्ज माफ न करने की बात को लोगों को मूर्ख बनाने वाला बयान बताया। उन्होंने कहा कि वित्त मंत्री अरुण जेटली लोगों को मूर्ख बना रहे हैं। सिंघवी ने दावा किया कि सरकार ने जानबूझकर पैसे नहीं लौटाने वालों का 1।88 लाख करोड़ रुपये का कर्ज बट्टे खाते में डाल दिया।

शीर्ष 50 कंपनियों पर बैंकों का 8.35 लाख करोड़ रुपये का बकाया
उन्होंने कहा कि हम सभी जानते हैं कि शीर्ष 50 कंपनियों पर बैंकों का 8.35 लाख करोड़ रुपये का बकाया है और उनमें से गुजरात की तीन कंपनियों रिलायंस अनिल अंबानी समूह, अडाणी तथा एस्सार ग्रुप पर तीन लाख करोड़ रुपये का कर्ज बकाया है। सिंघवी ने कहा कि उनमें से एक ने पिछले महीने सार्वजनिक रूप से घोषणा की थी कि वह अपना दूरसंचार कारोबार बंद करेंगे, जिस पर बैंकों का 45,000 करोड़ रुपये का बकाया है। उन्होंने इस टिप्पणी के जरिए अप्रत्यक्ष रूप से अनिल अंबानी के नेतृत्व वाले रिलायंस समूह पर निशाना साधा था।

Business News inextlive from Business News Desk