सभी लोगों के एकाउंट से जयपुर में निकाली गई रकम

-अलग-अलग बैंकों के खातों से निकाली गई रकम

-एटीएम कार्ड जेब में, डेबिट का मैसेज आया फोन पर

-सभी पीडि़त नेहरू कॉलोनी इलाके के रहने वाले

देहरादून

आप भी अपना बैंक एकाउंट चेक कर लीजिए. कहीं ऐसा न हो कि उससे रकम कोई और निकाल रहा हो. आपका एटीएम कॉर्ड आपके पास है तब भी आपके एकाउंट से हैकर्स पैसा निकाल सकते हैं और आप बैंक में शिकायत करने जाएंगे तो बैंक अधिकारी भी इसकी जिम्मेदारी नहीं लेंगे. शनिवार को देहरादून के 23 लोगों के साथ ऐसा ही हुआ. ये सारे मामले नेहरू कॉलोनी थाना इलाके के हैं. किसी के खाते से ढाई हजार रुपये निकाल लिए गए तो किसी के खाते से 80 हजार तक.

ठगी गई पूरी कॉलोनी

हैरत की बात ये है कि जिन लोगों के बैंक एकाउंट्स से रकम निकाली गई वो सभी लोग एक ही इलाके में आस-पास ही रहते हैं. ये बात अलग है कि सभी के खाते अलग-अलग बैंकों में हैं. अपनी तरह का ये पहला ऐसा मामला है कि एक ही इलाके में रहने वाले लोगों के बैंक अकाउंट्स से रकम निकाली गई. हैरत की बात भी ये है कि ये सारा कारनामा जयपुर के गैंग ने किया और जयपुर के अलग-अलग इलाकों के एटीएम से पैसे निकाले गए.

क्या कहते हैं बैंक ऑफिसर और पुलिस

ठगे गए लोगों में ज्यादातर वो लोग हैं जिनके एकाउंट्स स्टेट बैंक ऑफ इंडिया में हैं. नेहरू कॉलोनी स्थित एसबीआई की शाखा के मैनेजर का कहना है कि ऐसे मामले से वो भी आश्चर्यजनक है, लेकिन इसके लिए बैंक दोषी नहीं है. कहीं से कोई डाटा हैकर्स के हाथ लगा होगा. वहीं पुलिस का कहना है कि मामला साइबर क्राइम का ही है और इसकी जांच शुरू कर दी गई है.

सबसे पहले किया था आगाह

दैनिक जागरण आई नेक्स्ट ने एटीएम कार्ड की क्लोनिंग की खबर प्रकाशित कर अपने पाठकों को पहले ही आगाह कर दिया था. यहां तक बताया था कि किस तरह हैकर्स आपके एटीएम कार्ड का क्लोन तैयार कर रहे हैं.

--------------

हमारे संज्ञान में भी ये पहली तरह का मामला सामने आया है. एकसाथ इस तरह खातों का डाटा लीक होना चौंकाने वाला विषय है. बैंक की शाखा से कोई भी डाटा आउट नहीं हुआ है. दूसरे बैंकों के खातों से भी इसी तरह रकम निकाले जाने के मामले सामने आए हैं. हैकर्स ने कोई नई रणनीति बनाकर इसे अंजाम दिया है.

-ए के गुप्ता, मैनेजर, एसबीआई, नेहरू कॉलोनी

हमने सभी मामलों की शिकायतें दर्ज कर दी हैं. कुल 23 लोगों शिकायत लेकर आए थे जिनमें से 22 ने शिकायत दर्ज कराई है. साइबर सेल भी इस मामले की जांच में लगाई गई है. साथ ही एसओजी और थाना स्तर की टीमें भी बना दी गई हैं. पहली नजर में ये एटीएम कार्ड क्लोनिंग का मामला लगता है.

-निवेदिता कुकरेती, एसएसपी, देहरादून

------------

क्या कहना है पीडि़तों का

मेरे खाते से 80 हजार रुपये निकाले गए हैं. शुक्रवार रात करीब 11 बजे पहला मैसेज आया कि पैसे निकाले गए हैं. सुबह तक कई मैसेज आ चुके थे. बैंक से डिटेल निकालने पर पता चला कि सारी रकम अलग-अलग वक्त पर जयपुर के सांगर थाना इलाके से एसबीआई एटीएम से निकाली गई.

-जगवीर सिंह, नेहरू कॉलोनी

मेरा खाता पंजाब नेशनल बैंक के पटेल नगर शाखा में है. मेरे खाते से 50, 080 रुपये निकले हैं. पहला मैसेज मुझे शुक्रवार रात करीब 11 बजे मिला. तब मैंने ध्यान नहीं दिया लेकिन सुबह 6 बजे मोबाइल चेक किया तो खाते से 50 हजार से ज्यादा रकम निकाली जा चुकी थी. आज तक न मैंने कभी इंटरनेट बैंकिंग यूज की और न ही कभी किसी को बैंक डिटेल बताई.

-योगेंद्र गुसाईं, नेहरू ग्राम

मेरा खाता एसबीआई में है. मेरे खाते से शुक्रवार रात करीब 11 बजे 27, 500 रुपये निकाल लिए गए. मैंने कभी किसी को अपनी बैंक डिटेल नहीं बताई और न कभी इंटरनेट बैंकिंग का इस्तेमाल किया. डिटेल पता करने पर पता चला कि जयपुर में टंक रोड इलाके से मेरे खाते से पैसे निकाले गए.

-सुनील सिंह रौतेला, राजीव नगर

मेरा खाता एसबीआई की विधानसभा शाखा में है. मेरे खाते से शुक्रवार रात करीब साढ़ आठ बजे 4500 रुपये निकाले गए. मेरे खाते से जो पैसे निकाले गए वो एसबीआई बीकानेर में निकाले गए. बैंक वालों के पास शिकायत करने गया तो उन्होंने शिकायत लेने से भी इनकार कर दिया. बाद में पुलिस में शिकायत दर्ज की है.

-शैलेंद्र हटवाल, बद्रीश कॉलोनी