छ्वन्रूस्॥श्वष्ठक्कक्त्र: प्रजापिता ब्रह्माकुमारी ईश्वरीय विश्वविद्यालय के तत्वावधान में डिमना रोड मानगो स्थित महेंद्र मैरेज हॉल में आयोजित तीन दिवसीय 'श्रीमद्भागवत गीता के आध्यात्मिक रहस्य' विषयक प्रवचन श्रृंखला और सहज राजयोग शिविर का शुभारंभ खाद्य आपूर्ति मंत्री सरयू राय, समाजसेवी कमलेश लांबा, समाजसेवी संजय सिंह, ब्रह्माकुमारी अंजू बहन, बीके रागिनी बहन एवं सुधा बहन ने किया.

कार्यक्रम में करीब 450 से अधिक श्रद्धालुओं ने गीता प्रवचन लाभ लिया. मुख्य वक्ता राजयोगिनी अंजू बहन ने प्रवचन के विषय 'वर्तमान परिस्थिति एवं भटका हुआ मानव मन' को विस्तृत करते हुए कहा कि गीता किसी धर्म विशेष की नहीं है. यह सद्ग्रंथ मानव को आत्मिक स्वधर्म में स्थित कर जीवन जीने की कला सिखलाता है. गीता में सर्वशक्तिमान परमपिता परमात्मा के महावाक्य हैं. इनमें व्यक्तिगत, राष्ट्रीय एवं अंतरर्राष्ट्रीय समस्याओं का समाधान समाया हुआ है. श्रीमद्भागवत गीता के प्रथम अध्याय के विषद योग को विस्तारित कर बताया कि समस्याएं पड़ने पर मानव ईश्वर की शरण लेता है. अर्थात स्वयं को ईश्वर को समर्पित करता है. गीता के ज्ञान से डिप्रेशन से मुक्ति मिलती है. इसके बाद शुरू हुए सहज योग शिविर में राजयोगिनी अंजू बहन ने योग के विभिन्न स्तरों की संभावना एवं कर्म की कुशलता पर ध्यान केंद्रित कराया. सोमवार को आत्मज्ञान से संबंधित विषय पर प्रवचन होगा.