PATNA: बिहार में बाढ़ पूर्वानुमान सिस्टम को नई तकनीक से युक्त करने की योजना के तहत जल संसाधन विभाग की एक उच्चस्तरीय टीम बीजिंग पहुंच गई है. जल संसाधन मंत्री राजीव रंजन सिंह उर्फ ललन सिंह के नेतृत्व में चीन गई टीम में विभाग के प्रधान सचिव अरुण कुमार सिंह, अभियंता प्रमुख अरुण कुमार, फ्लड मैनेजमेंट इंप्रूवमेंट सेंटर के सहायक निदेशक परवेज अख्तर और आपदा प्रबंधन विभाग के अधीक्षण अभियंता सुनील कुमार सिंह भी शामिल हैं.

ली जाएगी जानकारी

जल संसाधन मंत्री ने बताया कि चीन ने येलो नदी पर फ्लड मैनेजमेंट सेंटर बनाया है. झेंग्यायू में बना यह केंद्र काफी उत्कृष्ट है. हाल ही में बिहार में बाढ़ प्रबंधन के लिए मैथेमेटिकल माडलिंग सेंटर बना है. बाढ़ से जुड़े गणितीय आंकड़े के आधार पर इस केंद्र से बाढ़ पूर्वानुमान के बारे में जानकारी उपल?ध कराई जा रही है. विश्व बैंक की मदद से बने इस केंद्र को और उत्कृष्ट बनाए जाने को लकरे चीन के फ्लड मैनेजमेंट सेंटर पर उन्नीस अप्रैल को जल संसाधन विभाग की टीम अध्ययन करेगी. बाढ़ के पूर्वानुमान की जानकारी हासिल किए जाने को ले फिजिकल मॉडलिंग सेंटर का निर्माण वीरपुर में निर्माणाधीन है.

कार्यशाला का होगा आयोजन

सोमवार को जल संसाधन विभाग की टीम ने बीजिंग स्थित नेशनल क्लाइमेट सेंटर तथा मेट्रोलॉजिकल सेंटर, चाइना का भ्रमण किया. अपनी चीन यात्रा के दौरान जल संसाधन विभाग की टीम कई कार्यशालाओं में शामिल होगी. येलो रीवर फ्लड मैनेजमेंट सेंटर में रीवर बेसिन मास्टर प्लानिंग, फ्लड कंट्रोल, जल व गाद रेग्यूलेशन पर कार्यशाला का आयोजन होना है. नदियों के तटबंध का भी अध्ययन होगा. उन्नीस अप्रैल को गाद नियंत्रण पर कार्यशाला का आयोजन होना है. शंघाई में जल संसाधन विभाग की टीम 21 अप्रैल को भी जल प्रबंधन से जुड़े संस्थान का दौरा करेगी.