- विस्फोट के बाद पत्थर गिरने से दो महिलाएं गंभीर रूप से हुई घायल

- मुनस्यारी में विस्फोट के बाद स्कूल की छत पर पत्थर गिरने से मची अफरा-तफरी

PITHORAGARH: मदकोट रिंगू चुलकोट मार्ग परर बिना किसी चेतावनी और सावधानी के चट्टान तोड़ने के लिए बारूदी विस्फोट करने दो महिलाएं गंभीर रूप से घायल हो गई. जबकि, मुनस्यारी में विस्फोट के बाद स्कूल में पत्थर गिरने से अफरा-तफरी मच गई. दोनों ही स्थानों पर दिन में ही बारूदी विस्फोट किए गए. बिना किसी चेतावनी के विस्फोट करने से लोगों में रोष है.

दूध बेचकर घर लौट रहीं थी महिलाएं

मदकोट रिंगू चुलकोट मार्ग पर निर्माण कार्य चल रहा है. शुक्रवार को ग्राम रिंगू चुलकोट निवासी खिला देवी पत्‍‌नी राजेंद्र सिंह व गंगोत्री देवी पत्‍‌नी दयार सिंह मदकोट में दूध बेचने के लिए गई थी. दोनों दूध बेचने के बाद घर लौट रहीं थी. इसी दौरान पहाड़ी तोड़ने के लिए ठेकेदार के निर्देश पर मजदूरों ने बारूदी विस्फोट कर दिया. जिससे पहाड़ी से पत्थर टूटकर दोनों महिलाओं पर गिर गए. इससे महिलाएं गंभीर रूप से घायल हो गई. दोनों को मदकोट अस्पताल में भर्ती कराया गया है. ग्रामीणों ने बिना किसी चेतावनी और सावधानी के दिन के समय ही विस्फोट किए जाने की शिकायत एसडीएम से की है.

संबंधित विभाग और ठेकेदार पर केस दर्ज करने की मांग

दूसरी घटना मुनस्यारी की है. यहां राजकीय महाविद्यालय भवन का निर्माण कार्य उत्तर प्रदेश निर्माण निगम करा रहा है. निर्माण कार्य के लिए पत्थर तोड़ने का कार्य चल रहा है. शुक्रवार को कर्मचारियों ने स्कूल के समय में ही बारूदी विस्फोट कर दिया. इससे बड़े-बड़े पत्थर विद्यालय की छत और परिसर में गिरने लगे. पत्थर गिरने से कक्षाओं में पढ़ रहे छात्रों में अफरा-तफरी मच गई. राइंका के प्रधानाचार्य हेम चंद्र कश्यप ने बताया कि जिस समय विस्फोट किया गया उस दौरान कक्षाएं चल रही थीं. सभी विद्यार्थी और शिक्षक कक्षाओं में थे. यदि मध्यावकाश के समय विस्फोट होता तो बड़ी दुर्घटना हो जाती. वहीं लोगों ने संबंधित विभाग और ठेकेदार के खिलाफ मुकदमा दर्ज कर गिरफ्तार करने की मांग की है.