- फलों और सब्जियों के दाम में 10 प्रतिशत से अधिक आया उछाल,

- कांवड़ मेले के चलते आढ़तियो ने स्टोर करना शुरु किए फल व सब्जी

Meerut . मानसून और कांवड़ मेले के आगमन के साथ ही फल और सब्जियों के दाम में इजाफा होने लगा है. कई सीजनल सब्जियों की अन्य राज्यों व शहरों से आपूर्ति की जा रही है. जिससे कुछ सब्जियों के दाम बढ़ चुके हैं. अब कांवड़ मेले के दौरान रुट बंद होने से यह सप्लाई बाधित रहेगी. जिससे इन सब्जियों और फलों की दाम ओर बढ़ने की संभावना है.

वर्जन

मानसून के कारण पहले ही सब्जियों के दाम बढ़े हुए थे. इनमें टमाटर, प्याज, मटर, गोभी, खीरा, नीबू सभी कुछ अन्य प्रदेशों से आयात कर पूर्ति की जा रही है. इसलिए दाम भी बढे़ हुए हैं. अगले कुछ दिनों कांवड के कारण रुट बंद रहेगा इसलिए अभी दाम में 25 से 30 प्रतिशत का इजाफा संभव है.

- सतवीर शर्मा, महामंत्री सब्जी व्यापार एसोसिएशन, नवीन मंड

वर्जन

मानसून के कारण फलों व सब्जियों के दाम में जो इजाफा हुआ है उतना ही रहे इसके लिए कांवड़ मेले के दौरान कई जरुरी सब्जियों का 4 से 5 दिन का स्टॉक स्टोर कर सप्लाई जारी रखने का प्रयास किया जाएगा. हालांकि कुछ सब्जियां जो खराब हो सकती हैं उनकी किल्लत हो सकती है. इसलिए शार्टेज से कुछ जगह दाम भी बढ़ेंगे.

- नरेश कुमार, सब्जी आढती, नवीन मंडी

वर्जन

आम का सीजन अंत में है इसलिए आम के दाम भी उछाल पर हैं ऐसे में कावंड मेले के दौरान आम का दाम बढेगा. यही हाल पपीता, सेब, केला, संतरा आदि का है. कांवड़ मेले के दौरान बाहर के राज्यों से आने वाली सप्लाई बंद हो जाती है इसलिए ये सभी फल महंगे हो जाएंगे. सभी के दाम में 10 से 15 रुपए का इजाफा संभव है.

- वरुण बंसल, ताजमहल फ्रूट सप्लायर्स

वर्जन

टमाटर, कटहल, बीन्स, कटहल जैसी सब्जियों के दाम बढने के कारण इन सब्जियों के ग्राहकों की संख्या लगातार कम होती जा रही है. ग्राहक अभी आलू, प्याज, भिंड जैसी सस्ती सब्जियों से ही काम चला रहे हैं. कांवड मेले से पहले ही चार पांच दिन की सब्जियों को रख लिया जाएगा ताकि ग्राहक को परेशानी ना हो.

- कौशल, सब्जी विक्रेता

फैक्ट-

- नवीन सब्जी मंडी से प्रतिमाह होता है 70 से 80 लाख का कारोबार

- सालाना सात करोड़ रुपए का व्यापार ऑन एवरेज

- 160 के करीब रजिस्टर्ड आढती

- रोजाना 50 से 60 बडे व छोटे वाहनों से होता है व्यापार

- आजादपुर सब्जी मंडी दिल्ली से होती है सबसे अधिक सप्लाई

- प्याज का सबसे अधिक आयात नासिक, राजस्थान से

- खीरा, करेला सहारनपुर से हो रहा आयात

- टमाटर- हिमाचल और नींबू की मद्रास से हो रही पूर्ति

सब्जियों व फलों के दाम- प्रतिकिग्रा

फिलहाल संभावित

टमाटर 60-70 80-100

भिंडी 50-60 60-70

आलू 55-60 60-65

खीरा 40 40-45

लौकी 40 50

तौरी 40 50-55

मिर्ची 60 60-65

बैंगन 40 50

मटर 100 110

फूलगोभी 100 100-110

आम 50-55 60-65

अनार 80-100 100-110

केला 45-50 50-60