Ranchi: अनगड़ा थाना क्षेत्र के नारायण घाटी की यह घटना है. इस मामले में दो प्राथमिकी दर्ज की गई है. अनगड़ा थाना में अज्ञात युवक का शव बरामद होने व तमाड़ थाना में अपहरण करने का मामला दर्ज किया गया है. इधर, फारेंसिंक टीम ने घटनास्थल पर पहुंचकर कई सैंपल लिए. इधर, पुलिस ने मुख्य आरोपी के भाई पदमदेव कर्मकार को हिरासत में लिया है.

क्या हैं मामला

राजू महतो तमाड़ थाना के बीट सेरेंगडीह मिटठूडीह का चौकीदार था. शनिवार की रात 11 बजे के करीब राजू अपनी बोलेरो पर अपने दो अन्य साथियों संजय राज कर्मकार व भंजन हजाम के साथ गांव में नशे के लिए पहुंचा. इसी बीच पहले से ही कुलकेश्वर कर्मकार अपने पांच-सात साथियों के मौैजूद था. इसी क्रम में दोनों पक्षों के बीच कहासुनी शुरू हो गई. विवाद के क्रम में ही राजू के ऊपर किसी ने गोली चला दी. राजू को बचाने आए संजय कर्मकार के ऊपर भी धारधार हथियार से हमला किया गया. इधर, भंजन हजाम मौके से फरार हो गया और राजू के घरवालों की इसकी जानकारी दी.

शव की पहचान में दिक्कत

इधर, राजू की गोली लगने से राजू की मौत हो गई. हत्यारे उसे उसी की बोलेरो गाड़ी में लादकर हराडीह-राहे होते हुए राहे-हाहे पथ में कोंतोटोली से आगे नारायण घाटी में ले आए. यहां पर राजू के शव सहित वाहन को आग लगा दी गई. रात के कारण इस रोड में कोई आवाजाही नहीं होती है. सुबह में लोगों की इस घटना की जानकारी हुई. पूरा वाहन जल गया है. शव का सिर्फ हड्डी बचा हुआ है. इस कारण शव की पहचान करने में परेशानी हो रही है.


एक खस्सी के विवाद ने ली राजू की जान

एक खस्सी के कारण हुए विवाद ने राजू की जान ले ली. दो माह पूर्व कुलकेश्वर कर्मकार के एक खस्सी को कुत्ता ने काट दिया था. इस खस्सी को राजू अपने कई अन्य साथियों के साथ मिलकर खा गया. इसी बात को लेकर कुलकेश्वर व राजू के बीच तनाव बढ़ता गया. कुलकेश्वर पूर्व में राजू का वाहन चालक था. राजू दबंग किस्म का व्यक्ति था. इस कारण गांव के कई अन्य लोग भी उससे नाराज चल रहे थे. सूत्रों ने बताया कि कुलकेश्वर ने राजू को मारने के लिए बाहर से दो शूटर मंगाए थे.

Crime News inextlive from Crime News Desk