एक नजर में जानें पूरा मामला
इंडियन नेवी के फॉर्मर ऑफिसर कुलभूषण जाधव पर पाकिस्तान ने आतंकवाद फैलाने का झूठा आरोप लगाकर सैन्य अदालत के जरिए उन्हें मौत की सजा सुनाई है। इंडिया की अपील पर इंटरनेशनल कोर्ट ऑफ जस्टिस ने इस सजा के अमल पर फिलहाल रोक लगा रखी है। कारोबार के सिलसिले में ईरान गए जाधव को मार्च 2016 में तालिबान ने अगवा करके पाकिस्तानी एजेंसियों को सौंपा था। इसके बाद पाकिस्तानी एजेंसियों ने जाधव पर बलूचिस्तान में आतंकवाद फैलाने का आरोप लगाकर मुकदमा चलाया और सैन्य अदालत ने जाधव को कानूनी मदद दिए बगैर मौत की सजा सुना दी।
जानें अमेरिका में पाकिस्‍तानियों ने ही पाकिस्‍तान को क्‍यों कहा चप्‍पल चोर

जाधव की मां से ऐसे सवाल पूछने पर पूरी दुनिया में हो रही पाक मीडिया की थू-थू, जानें क्‍या थे बेइज्‍जती भरे वो 3 सवाल

भारतीय, अफगान और पाकिस्तानी हुए एकजुट
झूठे आरोप में एकतरफा कार्रवाई के विरोध में अमेरिका में रहने वाले भारतीय, अफगान और पाकिस्तानी एकजुट हुए। उन्होंने जमा देने वाली सर्दी के बीच पाकिस्तानी एंबेसी के सामने मानवाधिकार उल्लंघन के इस मामले में नारेबाजी करते हुए विरोध जताया। प्रदर्शनकारियों ने अपने हाथों में जाधव को सही न्याय दिलाने के पोस्टर भी ले रखे थे।
जानें अमेरिका में पाकिस्‍तानियों ने ही पाकिस्‍तान को क्‍यों कहा चप्‍पल चोर

कुलभूषण से मिलने पहुंची मां-पत्नी, पाक था तैयार लेकिन ICJ ने रोक दी थी फांसी, जाने क्‍यों

नहीं हुआ न्‍याय पाने के अधिकार का पालन
प्रदर्शन में शामिल अमेरिकन फ्रेंड्स ऑफ बलूचिस्तान के संस्थापक अहमर मुस्तिखान ने कहा कि जाधव पर लगे आरोपों पर सुनवाई के दौरान न्याय पाने के किसी भी अधिकार का पालन नहीं किया गया। प्रदर्शनकारियों ने जाधव से मुलाकात के लिए गईं मां और पत्नी के चप्पल-जूते उतरवा देने पर खासतौर पर विरोध जताया गया। प्रदर्शन में जोर-शोर से चप्पल-चोर पाकिस्तान... के नारे लगाए गए।  
जानें अमेरिका में पाकिस्‍तानियों ने ही पाकिस्‍तान को क्‍यों कहा चप्‍पल चोर

इंटरनेशनल कोर्ट में 18 साल पहले भी लड़ चुके हैं भारत-पाक, केस हार गया था पाकिस्‍तान

International News inextlive from World News Desk