DEHRADUN: दून के चर्चित किडनी कांड में स्वास्थ्य विभाग की ओर से ट्रांसप्लांट ऑफ ह्यूमन ऑर्गन एक्ट के तहत सीजेएम कोर्ट में दाखिल केस पर फ्राइडे को सुनवाई हुई. सुनवाई के लिए किडनी कांड में गिरफ्तार किए जा चुके 14 आरोपियों सुद्धोवाला जेल से सीजेएम कोर्ट लाया गया. कोर्ट ने सुनवाई की अगली तारीख 22 फरवरी को तय की है.

मामले पर एक नजर

बीते 11 सितंबर को पुलिस ने डोईवाला स्थित गंगोत्री हॉस्पिटल में किडनी ट्रांसप्लांट के अवैध धंधे का खुलासा किया था. 16 सितंबर को गिरफ्तार हुए अमित राउत ने पूछताछ में बताया था कि वह 2008 में पकड़े जाने से पहले तक पांच सौ से ज्यादा ऑपरेशन कर चुका था. अमित ने डोईवाला में बीते जुलाई महीने से ऑपरेशन करना शुरू किए थे. इन तीन महीनों में यहां 50 के करीब ऑपरेशन किए जाने की दस्तावेजों के जरिए पुष्टि हुई थी.

सीजेएम कोर्ट को दी थी रिपोर्ट

किडनी ट्रांसप्लांट के सभी ऑपरेशन केंद्र और राज्य सरकार के नियमों की धज्जियां उड़ाते हुए किए गए थे. इसे लेकर स्वास्थ्य महकमे में हड़कंप मच गया था. विभाग ने अपने स्तर से मामले की जांच कराई और इस पर विस्तृत रिपोर्ट तैयार कर इसी 30 जनवरी को सीजेएम कोर्ट में दाखिल कर दिया था. इस रिपोर्ट में किडनी कांड में अब तक नामजद सभी 14 आरोपियों की भूमिका का विस्तार से जिक्र करने के साथ ही उनके द्वारा किए गए कानून के उल्लंघन के बारे में बताया गया है. इस मामले में स्वास्थ्य विभाग की ओर से सीजेएम कोर्ट में केस भी दर्ज करा दिया गया है, जिस पर फ्राइडे को सुनवाई हुई है. सहायक अभियोजन अधिकारी यशदीप श्रीवास्तव ने बताया कि 22 फरवरी को सुनवाई के साथ इस मामले में गवाहों के बयान भी दर्ज किए जाएंगे.

Crime News inextlive from Crime News Desk