DEHRADUN: राजधानी के बैंक उपभोक्ताओं को चूना लगाने वाले दो आरोपियों को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है. मामले अलग अलग थानों के हैं. जिनमें पुलिस ने सफलता पा ली.

अफसर बनकर उड़ाई रकम

पहला खुलासा एसटीएफ द्वारा किया गया है. एसएसपी रिधिमा अग्रवाल ने बताया कि बीते दिनों राजपुर रोड निवासी रवि कुमार ने बताया था कि फोन पर खुद को बैंक अधिकारी बताकर उसके खाते की जानकारी आरोपी ने हासिल की. अगले दिन ही उसके खाते से ख्9 हजार की रकम निकाल ली गई. पुलिस को जांच में पता चला कि आरोपी झारखंड के गोड्डा जिले में है. टीम गोड्डा पहुंची और आरोपी को अरेस्ट कर लिया. आरोपी ने अपनी पहचान शिव शक्ति मंडल पुत्र धनेश्वर मंडल निवासी ग्राम सरविंधा पोस्ट बांझी झारंखड के रूप में बताई.

नौकर ने चुराया था एटीएम

दूसरा केस थाना राजपुर का है. पुलिस ने बताया कि इंद्र बाबा मार्ग निवासी प्रमिला कौल ने बताया कि बीते दिनों वह अपने पति का इलाज करने मुंबई गई हुई थी. इस बीच उनके घर से उनका एटीएम चोरी हो गया था और उनके खाते से एक लाख रुपए की धनराशि निकाल ली गई. पुलिस ने मामला दर्ज कर घर पर लगे सीसीटीवी कैमरे के फुटेज खंगाले तो पता चला कि प्रमिला के घर पर काम करने वाले नौकर ने ही एटीएम चोरी किया था. पुलिस ने शुक्रवार को मुखबिर की सूचना पर आरोपी को गिरफ्तार कर लिया. आरोपी युवक ने पूछताछ में अपनी पहचान अनिल वर्मा पुत्र रामशरण वर्मा निवासी जिला गोंडा, उत्तर प्रदेश के रूप में कराई है. जिसके पास से म्ब्भ्00 रुपए भी बरामद किए गए हैं.

गुरुवार को फिर एक मामला

तीसरा मामला कोतवाली क्षेत्र का है. पीडि़त शांति विहार निवासी नीलेश कुमार ने पुलिस को दी तहरीर में बताया कि उसके खाते से अज्ञात लोगों ने भ्0 हजार रुपए की रकम अलग-अलग समय पर निकाली ली. पुलिस ने मामला दर्ज कर जांच शुरू कर दी है. कोतवाल बीबीडी जुयाल ने बताया कि उक्त मामले में संबंधित बैंक से पूछताछ की जा रही है.

इस साल ठगी के मामले

कुल मामले- ख्ब्म्

विवेचना जारी- क्म्9

आरोपी अरेस्ट- क्ख्8

(भ्0 परसेंट मामले साइबर ठगी के हैं.)