- साफ्टवेयर की वजह से बिजली के बिलों में हो रही गड़बड़ी

- बिजली बिल ठीक कराने के लिए उपभोक्ता काट रहे बिजलीघरों के चक्कर

Meerut . बिजली के बिलों में गड़बड़ी का मामला सामने आया है. कई बिलों में गड़बड़ी की शिकायतें सामने आ रही हैं. उपभोक्ताओं का कहना है कि बिल में पिछले बिल का पैसा लगकर आ रहा है. लिहाजा बिल ठीक कराने के लिए उपभोक्ता बिजलीघरों के चक्कर काट रहे हैं.

विभाग ने गड़बड़ी को माना

बिजली विभाग ने यह तो मान लिया है कि बिजली के बिल में गड़बड़ी है. लेकिन इसे वह सॉफ्टवेयर की गड़बड़ी बता रहे हैं. बिजली बिलों को सही कराने की बात कहकर विभाग पल्ला झाड़ रहा हैं.

केस नंबर एक

पिछले बिल का भी हिसाब

बच्चा पार्क स्थित राजेंद्र कुमार ने पिछला बिल जमा कर दिया था. लेकिन इस बार के बिल में पिछली बार के बिल का 28 रुपये बैलेंस जोड़कर भेज दिया है.उन्होंने जब बिल देखा तो वह सही कराने के लिए बिजलीघर पहुंचे. अधिकारियों ने गलती मानी और सही करने की बात कही. लेकिन एक सप्ताह हो गया अभी तक बिल ठीक नहीं हुआ है.

केस नंबर दो

हो रहे परेशान

कुछ ऐसा ही मामला नेहरू नगर निवासी राधेश्याम गुप्ता के साथ हुआ. उनके बिल में भी पिछले बिल का 21 रुपये बैलेंस जोड़कर भेज दिया है. जबकि पिछला बिल उन्होंने पूरा जमा किया था. पिछले दो दिन से वह बिल को सही कराने के लिए बिजलीघर का चक्कर काट रहे हैं.

हो रही गड़बड़ी

बिजली विभाग के शहर में 2.75 लाख उपभोक्ता है. इनका बिल तैयार करने का जिम्मा लखनऊ की एक कंपनी के पास है. इसी गड़बड़ी के चलते उपभोक्ता अतिरिक्त शुल्क भी जमा कर रहे हैं. या फिर सही कराने के लिए बिजली विभागों के चक्कर काट रहे हैं.

नहीं देखता कोई बिल

अमूमन कोई भी व्यक्ति जब बिल आता है तो वह महज एमाउंट ही देखता है. कभी वह पूरे बिल पर ध्यान नहीं देता है. ऐसा भी हो सकता है कि यह पहले से ही होता आ रहा हो.

वर्जन

बिजली के बिलों में गड़बड़ी का मामला सामने आया है. उसे ठीक कराने के निर्देश दे दिए हैं. जांच की जा रही है किस स्तर पर गड़बड़ी हुई है. जो भी दोषी होगा उसके खिलाफ कार्रवाई की जाएगी.

ब्रजमोहन शर्मा, एसई शहर