- 235 नशे के इंजेक्शन के साथ एक आरोपी गिरफ्तार

- डेढ़ साल से बेच रहा था नशे के इंजेक्शन

- नशा तस्करी के लिए छोड़ी थी मोटर मैकेनिक की नौकरी

देहरादून, नशे के इंजेक्शंस की खेप के साथ दून पुलिस ने एक तस्कर को दबोचा है. आरोपी के कब्जे से 235 प्रतिबंधित इंजेक्शन बरामद हुए हैं. आरोपी पिछले डेढ़ साल से नशा बेच रहा था. पुलिस ने उसके खिलाफ एनडीपीएस के तहत केस दर्ज कर उसे जेल भेज दिया है.

235 इंजेक्शन किए बरामद

देर रात कांवली रोड पर पुलिस चेकिंग के दौरान गिरफ्तार किए गए आरोपी से 253 डायजिपाम के इंजेक्शन बरामद किए गए. इनका इस्तेमाल नशे के लिए किया जाता था. आरोपी ने बताया कि वह 100 से 200 रुपए में एक इंजेक्शन बेचता था.

डेढ़ साल से तस्करी में लिप्त

पुलिस से मिली जानकारी के मुताबिक गिरफ्तार किया गया नशा तस्कर पिछले डेढ़ साल से नशे का धंधा कर रहा था. आरोपी पहली बार पुलिस की गिरफ्त में आया है. पुलिस की पूछताछ के दौरान आरोपी ने बताया कि वह सहारनपुर से ये प्रतिबंधित इंजेक्शन लेकर आता था. इन्हें नशे के आदी स्टूडेंट्स को बेचता था.

मोटर मैकेनिक बना नशा तस्कर

आरोपी की पहचान रोबिन्स पुत्र माथोलिबन निवासी राजीव गांधी कॉलोनी, गोविन्दगढ़ के रूप में हुई है. बताया जा रहा है कि वह पहले एक नामी कंपनी में बतौर मोटर मैकेनिक नौकरी कर रहा था. ज्यादा पैसा कमाने के लालच में उसने ये नौकरी छोड़कर नशे के इंजेक्शन बेचने शुरू किए और पिछले डेढ़ साल से वह नशे के इंजेक्शन बेच रहा था.

-------------------

आधा किलो स्मैक संग एक धरा

थाना डालनवाला पुलिस ने देर रात चेकिंग के दौरान एक व्यक्ति को 555 ग्राम स्मैक के साथ गिरफ्तार किया है. आरोपी के खिलाफ मुकदमा दर्ज कर उसे जेल भेज दिया गया है. पुलिस से मिली जानकारी के मुताबिक लक्ष्मण भारती स्कूल के पास चेकिंग अभियान चलाया जा रहा था. इस दौरान जब एक स्कूटी सवार की तलाशी ली गई तो उससे स्मैक बरामद हुई. पुलिस पूछताछ के लिए आरोपी को थाना लाई. आरोपी ने अपनी पहचान आशीष कुमार निवासी मोरीवाला देहरादून बताई.

----------------

इंजेक्शन के साथ दबोचा गया आरोपी पिछले डेढ़ साल से नशा तस्करी में लिप्त था. आरोपी पहली बार पुलिस के गिरफ्त में आया है, जिसे कोर्ट में पेश कर जेल भेज दिया है. आरोपी पहले दून की एक निजी कंपनी में मोटर मैकेनिक का काम करता था.

प्रद्युम्न नेगी, विवेचक.