LUCKNOW: गोमतीनगर विस्तार के कावेरी अपार्टमेंट की 11वीं मंजिल से इंजीनियर ने कूदकर आत्महत्या कर ली. सुबह उसका शव बेसमेंट में खून से लथपथ देखा गया. गार्ड की सूचना पर पहुंची पुलिस ने इंजीनियर की जेब से फ्लैट की चाबी, मोबाइल फोन और एक सुसाइड नोट बरामद किया है. सुसाइड नोट में इंजीनियर ने आत्महत्या की वजह कर्ज डूबने की बात लिखी. जबकि परिजनों का कहना है कि यह सुसाइड नहीं बल्कि हत्या है. पुलिस मामले की तफ्तीश के लिए सुसाइड नोट की जांच हैंड राइटिंग एक्सपर्ट से कराने की बात कह रही है.

11वीं मंजिल से छलांग लगाकर की आत्महत्या

मूलरूप से गीतापुरम फर्रूखाबाद निवासी अनिल कुमार पाल (46) सिविल इंजीनियर थे और एक फर्म में पार्टनर थे. अनिल पत्नी अंजू और बेटे आयुष व एक बेटी के साथ गोमतीनगर विस्तार के कावेरी अपार्टमेंट के ए ब्लॉक फ्लैट नंबर 501 नंबर में किराए पर रहते थे. जबकि उनका ऑफिस बहुखंडी स्थित धेनुमति अपार्टमेंट में है. सुबह करीब 3.30 बजे गार्ड ने उन्हें बेसमेंट में नीचे पड़ा देखा. गार्ड ने इसकी सूचना अपार्टमेंट में रहने वालों के साथ गोमतीनगर पुलिस को दी. मौके पर पहुंची पुलिस ने बताया कि अनिल पांचवीं मंजिल पर रहते थे, लेकिन उन्होंने 11वीं मंजिल से छलांग लगा कर आत्महत्या की है.

सीसीटीवी में सुबह 3 बजे तक देखा गया

कावेरी अपार्टमेंट के सभी फ्लोर पर सीसीटीवी कैमरे लगे हैं. सूचना पर पहुंची गोमतीनगर ने अनिल के आत्महत्या की जांच पड़ताल शुरू की. पांचवें फ्लोर और 11वीं फ्लोर पर लगे सीसीटीवी फुटेज को खंगाला गया. रात एक बजे से 3 बजे तक अनिल को फुटेज में जिंदा देखा गया जबकि 11वीं मंजिल पर जाते हुए भी देखा गया. अनिल ने इस दौरान दो बार नीचे कूदने का प्रयास भी किया, लेकिन हिम्मत नहीं जुटा सके. सुबह 3 बजे के बाद वह 11वीं मंजिल पर पहुंचे और वहां से छलांग लगा दी.

पार्टनर के साथ किया था डिनर

अनिल की पत्नी और बच्चे पिछले एक सप्ताह से फर्रूखाबाद गए हैं. वह फ्लैट में अकेले थे. पुलिस के अनुसार सोमवार रात उन्होंने अपने पार्टनर राजीव यादव के घर में डिनर किया था. डिनर करने के बाद वह वापस अपने फ्लैट में लौट आए थे. पुलिस को उनकी जेब से फ्लैट की चाबी, मोबाइल फोन और एक सुसाइड नोट मिला है. जिसमें उन्होंने लिखा है कि उन्हें काफी लोगों को पैसे वापस करने हैं. वह काफी कर्ज में डूब गए हैं, जिसकी भरपाई नहीं की जा सकती है. इसलिए वह आत्महत्या कर रहे हैं. उन्होंने सुसाइड नोट में फर्रूखाबाद में रहने वाले अपने पिता कृष्णा पाल सिंह का मोबाइल नंबर भी लिखा है जिसमें सूचना देने की बात कही गई है.

परिजन लगा रहे हत्या का आरोप

सूचना पाकर परिजन दोपहर करीब 11 बजे लोहिया अस्पताल पहुंचे. परिजनों का कहना है कि अनिल ने सुसाइड नहीं किया बल्कि उनकी प्लानिंग के साथ हत्या की गई है. सुसाइड नोट पर भी परिजनों ने सवाल खड़े किये हैं. साथ ही हैंड राइटिंग अनिल की न होने की बात कहीं है. जिस पर पुलिस सुसाइड नोट की जांच के लिए उसे हैंड राइटिंग एक्सपर्ट के पास भेज रही है. रिटायर्ड गन्ना अधिकारी पिता कृष्णा पाल और उनके रिश्तेदारों का कहना है कि अनिल को जल्द ही करीब डेढ़ करोड़ रुपये की पेमेंट मिली थी. इसके अलावा उनकी हरदोई समेत कई जगहों पर साइड चल रही थी.

आबकारी का फार्म भरने वाले थे

अनिल के एक रिश्तेदार ने बताया कि सोमवार को उन्होंने कॉल कर शराब दुकान के आवंटन के आवेदन के लिए फार्म मंगवाया था. मंगलवार को उन्होंने खुद ही फार्म लेकर अपने फ्लैट पर बुलाया था. अगर वह कर्जदार होते तो इतनी परेशानी में शराब दुकान के आवंटन के लिए आवेदन क्यों करते. इसके अलावा परिजनों ने उनके पार्टनर राजीव यादव और अमित यादव की भूमिका पर भी शक जताया है.

Crime News inextlive from Crime News Desk