डाकघर से ज्‍यादा तो रोज देश के इस बड़े अस्‍पताल में आते हैं हजारों लेटर, डॉक्‍टर परेशान, जानें कौन भेज रहा

By: Shweta Mishra | Publish Date: Wed 14-Feb-2018 12:18:47   |  Modified Date: Wed 14-Feb-2018 12:25:42
A- A+
डाकघर से ज्‍यादा तो रोज देश के इस बड़े अस्‍पताल में आते हैं हजारों लेटर, डॉक्‍टर परेशान, जानें कौन भेज रहा
डाकघर से ज्‍यादा अस्‍पताल में हर द‍िन लेटर पहुंचने वाली बात सुनकर हो सकता आप हैरान हो रहे हों लेक‍िन यह सच है। खास बात तो यह है क‍ि यह देश का जाना माना अस्‍पताल है और राजधानी द‍िल्‍ली में स्‍ि‍थत है। अस्‍पताल में हर द‍िन करीब हजारों लेटर पहुंचने से डॉक्‍टर हैरान हैं। आइए जानें क‍ि आखि‍र यह कौन सा अस्‍पताल है और कौन भेजता है यहां खत...

नेताओं की ओर से भेजे जाते हैं
जी हां यह अस्‍पताल देश की राजधानी द‍िल्‍ली का अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान यानी क‍ि‍ एम्‍स है। यहां पर हर द‍िन स‍िफार‍िशों को ल‍िए करीब 3 से 4 हजार लेटर आते हैं। खास बात तो यह है क‍ि ये खत देशभर के सांसदों और विधायकों की ओर से भेजे जाते हैं।

स‍िफार‍िशी खत बने गले की फांस
ये नेता खतों के जरि‍ए अपनों की स‍िफार‍िश करते हैं। जबक‍ि हकीकत में इन खतों से यहां के डॉक्‍टर परेशान होते हैं। वे मरीज को उसकी बीमारी के ह‍िसाब से एडमि‍ट करने से लेकर ट्रीटमेंट की सुव‍िधा देते हैं लेक‍िन ये स‍िफार‍िशी खत उनके गले की फांस से बन चुके हैं।

Aiims doctor, Aiims doctor shocked, letters reached in aiims, 4000 letters in aiims, aiims hospital, mlas mps doctor sad,

नेता अस्‍पताल में लेटर्स न भेजें

इस संबंध में एम्‍स के कई डॉक्‍टरों का कहना है क‍ि कोश‍िश करें क‍ि ये नेता अस्‍पताल में लेटर्स न भेजें। इससे उन्‍हें काफी परेशानी होती है। अब डॉक्‍टर्स इन स‍िफार‍िश वाले खतों पर ध्‍यान नहीं देते हैं वे उसी मरीज पर ही ध्‍यान देते हैं जो उसके सामने मौजूद होता है।  

सभी मरीजों की द‍िक्‍‍कतें दूर होंगी
अगर हकीकत में ये सांसद और विधायक जनता की मदद करना चाहते हैं क‍ि तो उस क्षेत्र को देखें जहां इलाज की द‍िक्‍कत है। प्रधानमंत्री और स्वास्थ्य मंत्री को पत्र से उस क्षेत्र की समस्‍याओं से अवगत कराएं। इससे एक नहीं बल्‍क‍ि क्षेत्र के सभी मरीजों की द‍िक्‍‍कतें दूर होंगी।

आंध्र के किसान ने सनी लियोनी को बनाया नजर बट्टू, रेड ड्रेस में द‍िन-रात ऐसे उतार रहीं नज

National News inextlive from India News Desk

खबरें फटाफट