क्या आपका बच्चा भी इस स्पिनर से खेलता है?

By: Satyendra Singh | Publish Date: Fri 11-Aug-2017 09:36:01   |  Modified Date: Fri 11-Aug-2017 10:34:10
A- A+
क्या आपका बच्चा भी इस स्पिनर से खेलता है?
खाल को नुकसान पहुंचाने में सक्षम फिजेट स्पिनर की बिक्री पूरी दुनिया में बढ़ती जा रही है।

ब्रिटेन में भी इसकी ख़रीद बढ़ती जा रही है। बीबीसी की एक टीम के मुताबिक सुरक्षा मानकों पर खरा नहीं उतरने वाले इस खिलौने को ऑनलाइन बाज़ार में बेचा जा रहा है।

इसे ऑनलाइन कंपनी ईबे बेच रही है।

बच्चों के बीच भारी लोकप्रिय इस खिलौने ने अभिभावकों की चिंता बढ़ा दी है।

सुरक्षा जांच में पाया गया है कि यह खिलौना आंख और खाल को नुकसान पहुंचा सकता है।

ऑनलाइन कंपनी ईबे का कहना है कि वे इसे वेबसाइट से हटा देंगे।

इस स्पिनर को ऑटिज़म जैसे रोगों से लड़ रहे बच्चों की मदद के लिए बनाया गया था, ताकि उनका तनाव कम किया जा सके। लेकिन अब यह आम बच्चों के बीच सनक का कारण बन चुका है।

बीबीसी वॉचडॉग की टीम ने ईबे की वेबसाइट से ऐसे तीन स्पिनर की ख़रीदारी की है।

इन स्पिनर को ब्रिटेन में नुकसान पहुंचाने वाले हथियार 'शुरिकेन' और 'डेथ स्टार' की तरह डिजायन किया गया है।

इन तीनों स्पिनर को ब्लेड के विशेषज्ञ प्रो। सरह हेंसवर्थ के परीक्षण से गुजारा गया, जिसमें इसे ख़तरनाक पाया गया।

परीक्षण के दौरान उन्होंने आंख की जगह टमाटर और त्वचा की जगह पोर्क स्किन पर इसका इस्तेमाल किया। तीनों को हानि पहुंचाने में इसे सक्षम पाया गया।

Fidget spinners, Banned Fidget spinners, Spinner Toy, Fidget spinner ebay, Ban on Fidget spinner, Fidget spinner toy,Interesting Facts News Hindi, Interesting Articles in Hindi, Funny News Hindi

ईबे के प्रवक्ता ने कहा, "इस खिलौने पर प्रतिबंध है और इसे जल्द ही वेबसाइट से हटा लिया जाएगा। इसकी बिक्री पर ध्यान दिलाने के लिए बीबीसी को धन्यवाद देना चाहता हूं।"

खिलौना सुरक्षा विशेषज्ञ ने बताया कि बिना सुरक्षा परीक्षण के कोई भी खिलौना बाज़ार में बेचा नहीं जा सकता है।

अभिभावकों के लिए ज़रूरी बात

खिलौने के पैक पर सीई मार्क ज़रूर देखें। इसका मतलब यह है कि सीई मार्क वाले खिलौने यूरोपियन स्टैंडर्ड के होते हैं, जो सुरक्षा की दृष्टि से उत्तम होते हैं।

अगर सीई मार्क नहीं मिले तो उसे न ख़रीदें।

इस तरह के खिलौने हमेशा अच्छे दुकानों से ख़रीदें।

तीन साल से कम के बच्चों को इस तरह के खिलौने न दें।