वार्ड के कंफ्यूजन में ही डूब जाता है घंटाघर

By: Inextlive | Publish Date: Tue 20-Jun-2017 07:41:14
A- A+
वार्ड के कंफ्यूजन में ही डूब जाता है घंटाघर

- तीन वार्डो की सीमा बसा घंटाघर एरिया जल जमाव से रहता है परेशान

- संकरी नालियों की नहीं होती सफाई, कंप्लेन करने पर मिलता है सिर्फ आश्वासन

GORAKHPUR: मंडल का प्रसिद्ध ज्वेलरी व कपड़ा मार्केट घंटाघर नगर निगम के वार्डो की सीमा में उलझ कर रह गया है। तीन वार्डो की सीमा पर बसे इस मार्केट को संकरी नालियों के चलते हर बारिश में भारी जल जमाव झेलना पड़ता है। हाल ये है कि तेज बारिश होने पर सड़कों पर जमा पानी दुकानों के अंदर घुस जाता है। इसे लेकर परेशान व्यापारी कंप्लेन तो करते हैं लेकिन जिम्मेदार दूसरे वार्ड का मामला बोल जिम्मेदारी टकराने में लगे हैं.

संकरी नालियां बढ़ाती हैं मुसीबत

जल जमाव की समस्या ने घंटाघर एरिया के लोगों को कई वर्षो से परेशान कर रखा है। इसका मुख्य कारण है यहां की संकरी नालियां। नालियों के संकरा होने के चलते एरिया में प्रॉपर जल निकासी नहीं हो पाती है। ऐसे में यहां बारिश के बिना भी अक्सर नालियों का पानी सड़क पर ओवरफ्लो होता रहता है। इस एरिया में नालियों का निर्माण भी 2000 के पहले ही हुआ है। उस समय यहां की आबादी कम थी, लेकिन अब स्थिति यह है कि आबादी तीन गुनी हो गई है और जल निकासी के नाले और नालियों की चौड़ाई और गहराई वही है। दूसरी तरफ वार्ड नं 68, 70 और 45 की सीमा पर बसे होने के कारण यहां तैनात सफाई कर्मी भी यहां सफाई को लेकर एक दूसरे पर ही जिम्मेदारी डालते रहते हैं।

यह हो तो मिले राहत

- यहां तैनात नाइट गैंग से नालियों की भी सफाई कराई जाए

- दुकानदार इस बात का ध्यान दें कि उनके दुकान से प्लास्टिक और कागज नाली में ना जाए

- नालों की जल निकासी की व्यवस्था एक तरफ की जाए

- नालियों की चौड़ाई की जगह गहराई बढ़ाई जाए

- वार्ड के सफाई कर्मियों की नियुक्ति सही से की जाए

कॉलिंग

तीन वार्डो की सीमा पर पड़ने के कारण घंटाघर की सफाई व्यवस्था पूरी तरह से चरमरा गई है। पता ही नहीं चल पाता है कि कूड़ा उठाने के लिए किससे कंप्लेन की जाए। रोड के किनारे पड़ा कूड़ा कुछ देर में नाली में चला जाता है और जल निकासी ठप कर देता है।

- सुजीत गौड़, सर्विसमैन

इस एरिया में तैनात नाइट गैंग द्वारा कभी नालियों की सफाई नहीं होती है। अगर नालियों की सफाई होती तो सुबह जल जमाव की स्थिति नहीं बनती। कई एरिया में तो आधे रास्ते पर गंदगी फैली होती है.

- बलराम, व्यापारी

इस एरिया में मोहल्लों की तो सफाई होती नहीं है, नाले और नालियों की सफाई की बात कौन करे। कंप्लेन की जाती है तो सिर्फ आश्वासन मिलता है।

- सोमेंद्र उपाध्याय, सर्विसमैन

नगर निगम को इस एरिया के जल निकासी के लिए नालियों को और गहरा करने की जरूरत है। अगर नालियां गहरी हो जाएं तो जल निकासी और आसानी से हो.

- शालीग्राम वर्मा, दुकानदार

inextlive from Gorakhpur News Desk