मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ मेरठ में महिलाओं से सुरक्षा का वादा कर रहे थे, तभी छात्रा ने खुद को आग लगाई.

दबंग कर रहे थे छेड़छाड़, छात्रा ने आग लगाकर दी जान

छह जनवरी को लगाई आग, मरने से पहले मजिस्ट्रेट को दिया बयान

चार लड़कों पर लगातार छेड़ने और दुष्कर्म के प्रयास का लगाया आरोप

Meerut. बहू-बेटियों को भयमुक्त समाज देने का मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ का दावा मेरठ में तार-तार हो गया, जब छेड़छाड़ से त्रस्त एक छात्रा ने अपने ऊपर मिट्टी का तेल छिड़ककर आग लगा ली. मेडिकल कॉलेज में इलाज के दौरान गुरुवार को उसकी मौत हो गई. मरने से पहले छात्रा ने मजिस्ट्रेट के सामने दिए बयान में चार आरोपियों पर लगातार छेड़छाड़ करने और दुष्कर्म के प्रयास का आरोप लगाया है. इसके बाद पुलिस ने चारों आरोपियों के खिलाफ मुकदमा दर्ज कर एक को गिरफ्तार कर लिया. तीन आरोपियों की तलाश में ताबड़तोड़ दबिश दी जा रही है.

ये है मामला

भावनपुरा थानाक्षेत्र के एक गांव की 14 साल की छात्रा गांव के ही निजी स्कूल में आठवीं कक्षा में पढ़ती थी. वह समीप के गांव गावड़ी में ट्यूशन पढ़ने जाती थी. छात्रा के पिता का कहना है कि गावड़ी निवासी अंकित, मोहित, रवि और शोभित बेटी से छेड़छाड़ करते थे. आरोपी दबंग परिवार से हैं, इसलिए वह चुप रहे.

लगा ली आग

छह जनवरी को ट्यूशन पढ़कर लौटी तो घर में गुमशुम बैठ गई. पूछने पर भी उसने कुछ नहीं बताया. कुछ देर के बाद कमरे में गई. दरवाजा अंदर से बंदकर मिट्टी का तेल छिड़ककर आग लगा ली. परिजनों ने कमरे का दरवाजा तोड़कर उसे निकाला तब तक काफी जल चुकी थी.

85 फीसदी जली

उसे मेडिकल कालेज में भर्ती कराया गया. डाक्टरों के मुताबिक, वह 85 फीसद जल चुकी थी. गुरुवार को विश्व ¨हदू परिषद के हस्तक्षेप के बाद पुलिस ने मजिस्ट्रेट को बुलाकर छात्रा के बयान कराए. बयान दर्ज कराने के कुछ देर के बाद ही उसकी मौत हो गई.

गावड़ी गांव के चार युवक किशोरी के साथ छेड़छाड़ करते थे. उसने बयान दिया है कि एक दिन उसके साथ दुष्कर्म का प्रयास भी हुआ. चारों पर छेड़छाड़ और दुष्कर्म के प्रयास का मुकदमा दर्ज किया गया है. एक आरोपी अंकित को गिरफ्तार कर लिया गया है. बाकी की तलाश की जा रही है.

राजेश कुमार, एसपी देहात