- शनिवार को बिहार से लौट रही थी गोरखपुर

- 18वें नंबर वैगन के चार चक्के अचानक हुए बेपटरी

द्दह्रक्त्रन्य॥क्कक्त्र: कैंट रेलवे स्टेशन पर छपरा से गोरखपुर आ रही मालगाड़ी बेपटरी हो गई. शनिवार की दोपहर करीब पौने एक बजे हुई घटना पर सायरन बज उठा. किसी बड़ी अनहोनी की आशंका भांपकर रेलवे अधिकारी मौके पर रवाना हो गए. रेलवे की रेस्क्यू टीम ने प्रेशर जैक से मालगाड़ी के चक्कों को उठाकर पटरी पर रखे. इस दौरान कैंट रेलवे स्टेशन रेलवे गेट बंद होने से पब्लिक को परेशानी का सामना करना पड़ा. करीब तीन घंटे के बाद पटरी पर आई मालगाड़ी को आगे बढ़ाया जा सका. इस दौरान पहले से ही लेट आ रही आम्रपाली एक्सप्रेस के पैसेंजर्स को डेस्टिनेशन तक पहुंचने के लिए थोड़ा और इंतजार करना पड़ा.

प्रेशर जैक से चढ़ाया चक्का

सैन्य सामानों की डिलेवरी देकर मालगाड़ी छपरा से गोरखपुर लौट रही थी. शनिवार की दोपहर करीब 12 बजकर 50 मिनट पर मालगाड़ी कैंट स्टेशन पर पहुंची. तभी 18वें वैगन के चार पहिए पटरी से उतर गए. मालगाड़ी के पटरी से उतरने की सूचना तत्काल कंट्रोल रूम को दी गई. रेलवे अधिकारी और कर्मचारी मौके पर रवाना हो गए. बेपटरी हुई मालगाड़ी को उठाने के लिए 'महाबली' क्रेन भी मंगवाई गई. लेकिन उसके इस्तेमाल की जरूरत नहीं पड़ी. प्रेशर जैक की मदद से कर्मचारियों ने चक्कों को पटरी पर रख दिया.

कटिहार-अमृतसर हुई विलंब

मालगाड़ी के पीछे ही कटिहार अमृतसर एक्सप्रेस चल रही थी. मालगाड़ी के पटरी से उतरने पर उसे रोकना पड़ गया. इस वजह से कटिहार से अमृतसर जा रहे पैंसेजर काफी देर तक एक दूसरे से गाड़ी चलने के संबंध में सवाल पूछते रहे. उसी ट्रेन इंजन लगाकर मालगाड़ी को पीछे खींचा गया. इसके बाद उसे आगे बढ़ाकर स्टेशन पर खड़ा किया गया. ट्रेन हटने के बाद समपार फाटक से आवागमन शुरू हो सका. गेट बंद होने पर झरना टोला से लेकर रेलवे गेट के दोनों ओर वाहन खड़े रहे. मालगाड़ी के पटरे से उतरने की जानकारी होने पर लोगों ने रूट चेंज करके आवागमन किया.