बिजली कटौती से पूरी रात जागकर बिताई

By: Inextlive | Publish Date: Thu 14-Sep-2017 07:41:19
A- A+
बिजली कटौती से पूरी रात जागकर बिताई

GORAKHPUR: सिटी की पावर सप्लाई पूरी तरह से ध्वस्त हो गई है। मंगलवार को कटौती का दंश झेलने के बाद कंज्यूमर्स को देर शाम थोड़ी राहत तो मिली, लेकिन मंगलवार रात 2 बजे के करीब 33 हजार केबी लाइन पर पेड़ गिरने से नार्मल व लालडिग्गी सबस्टेशन ब्रेकडाउन हो गए। इसके चलते 10 हजार से अधिक कंज्यूमर्स को पूरी रात जागकर काटनी पड़ी। बरहुंआ से लालडिग्गी आने वाली 33 हजार केबी लाइन पर नौसड़ के पास पेड़ गिरने से दोनो सबस्टेशन ब्रेकडाउन होने से उपभोक्ताओं को पूरी रात उमस भरी गर्मी का सामना करना पड़ा.

और टूट गई पेड़ की डाल

लालडिग्गी व नार्मल सब स्टेशन के ब्रेकडाउन होने से सुबह बिजली कर्मियों ने फाल्ट खोजना शुरू किया तो पता चला कि नौसड़ के पास 33 हजार केबी लाइन पर पेड़ की डाली टूटकर गिरी है। बिजली कर्मियों ने तार पर गिरे पेड़ की डाली को हटाकर फाल्ट ठीक किया। इसके बाद सुबह 9 बजे नार्मल व लालडिग्गी सब स्टेशन से जुड़े क्षेत्रों में आपूर्ति बहाल हुई। रातभर बिजली गायब रहने से उपभोक्ताओं में सुबह पानी के लिए मारामारी मची रही। हैंडपंप के सहारे प्रभावित परिवारों ने अपनी दिनचर्या का कार्य निपटाया। सर्वाधिक परेशानी महिलाओं को झेलनी पड़ी। सुबह बच्चों को तैयार कर स्कूल भेजने के लिए महिलाओं को काफी मशक्कत करनी पड़ी। ड्यूटी पर जाने वाले भी पानी के लिए बेचैन रहे। एसडीओ रुस्तमपुर सुजीत गुप्ता ने बताया कि नौसड़ के पास 33 हजार केबी लाइन पर पेड़ की डाली गिरने से लालडिग्गी व नार्मल उपकेन्द्र से जुड़े मुहल्लों में आपूर्ति रात 2 बजे से सुबह 9 बजे तक बाि1धत रही है.

33 हजार व 11 हजार केबी लाइनों के सर्वे का निर्देश

सिटी में धराशायी हो रही बिजली आपूर्ति व्यवस्था पर चीफ इंजीनियर एके सिंह सिंह की तल्खी बढ़ गई है। बिजली आपूर्ति व्यवस्था को ठीक करने के लिए चीफ इंजीनियर ने 33 हजार व 11 हजार केबी लाइनों के सर्वे कराने का निर्देश अधिशासी अभियंताओं को दिया है। चीफ इंजीनियर ने बताया कि पूर्व के समय में पता नहीं कैसे डाली कटिंग व तारों को टाइट किया गया, कुछ पता ही नहीं चल रहा है। हल्की हवा चलने पर पोल व तार टूटकर गिर रहे हैं। सबसे मुश्किल 33 हजार की लाइनों पर पेड़ की डाली गिरने से है। उन्होंने कहा कि महानगर में 33 हजार व 11 हजार केबी लाइनों का सर्वे कराने के बाद उनपर गिरने वाली पेड़ की डाली को कटवाया जाएगा। कहा कि बिजली आपूर्ति को बेहतर बनाने के लिए सर्वे कराने का निर्देश दिया है। इसके साथ ही ट्रांसफॉर्मर पर झाड़- झंखाड़ को साफ कराने का निर्देश भी दिया है.

inextlive from Gorakhpur News Desk