ऐसा हुआ था मामला
इंटरनेशनल क्रिकेट में सबसे ज्‍यादा विकेट लेने वाले मुथैया मुरलीधरन ने बीते साल मीडिया के सामने ये बयान दिया था कि टीम इंडिया के हेड कोच अनिल कुंबले बहुत चालू हैं। इसके अलावा इन्‍होंने ये भी कहा था कि कुंबले चालू इसलिए हैं क्‍योंकि उन्‍हें पता है कि किस परिस्‍थिति में क्‍या करना है। दरअसल मुरलीधरन ने अनिल कुंबले पर ये टिप्‍पणी उनकी तारीफ के तौर पर की थी।

लोग रह गए थे शॉक्‍ड,जब टेस्‍ट मैच में 800 विकेट लेने का रिकॉर्ड बनाने वाले मुरलीधरन ने कुंबले को कहा था चालू

ये मानना था मुरलीधरन का
कुल मिलाकर मानें तो मुरलीधरन का ये मानना था कि कुंबले के साथ उस समय के टेस्‍ट कप्‍तान कोहली के नेतृत्‍व में टीम बेहतरीन प्रदर्शन करेगी। इसको लेकर उन्‍होंने मीडिया के सामने कहा था कि कुंबले बहुत चतुर हैं। सिर्फ यही नहीं वह परिस्‍थितियों को बखूबी जानते हैं। उन्‍होंने ये भी कहा कि कुंबले को हर बार पता होता है कि उनको क्‍या करना चाहिए। मुरलीधरन ने कहा था कि उन्‍हें लगता है कि भारतीय टीम कुंबले के नेतृत्‍व में अच्‍छा प्रदर्शन करेगी।

पढ़ें इसे भी : क्रिकेटर एरिक हॉलीज के बारे में जानें ये खास बातें, 10 विकेट तो लिए लेकिन कभी हैट्रिक नहीं लगाई

तब लिया था कॅरियर का 800वां विकेट
अब बात करें इस श्रीलंकाई क्रिकेटर के रिकॉर्ड की तो 22 जुलाई 2010 में अपने आखिरी टेस्‍ट मैच की अपनी ही अंतिम गेंद पर कॅरियर का 800वां और आखिरी विकेट लेकर इन्‍होंने संन्‍यास ले लिया। वैसे सिर्फ यही नहीं टेस्‍ट क्रिकेट के साथ ही साथ मुरलीधरन वनडे इंटरनेशनल मैचों में भी सबसे ज्‍यादा विकेट लेने वाले गेंदबाज रहे हैं।

पढ़ें इसे भी : अच्‍छी बैटिंग न कर पाने के कारण सुरेश रैना को हुआ 35 करोड़ का नुकसान

लोग रह गए थे शॉक्‍ड,जब टेस्‍ट मैच में 800 विकेट लेने का रिकॉर्ड बनाने वाले मुरलीधरन ने कुंबले को कहा था चालू
ऐसे बने और टूटे रिकॉर्ड
5 फरवरी 2009 में कोलंबो की जमीं पर क्रिकेट खेलते हुए इन्‍होंने गौतम गंभीर का विकेट लेकर वसीम अकरम के 502 विकेटों के ओडीआई रिकॉर्ड को तोड़ दिया था। सिर्फ यही नहीं वह उस समय टेस्ट क्रिकेट में सबसे ज्‍यादा विकेट लेने वाले गेंदबाज बने जब उन्होंने 3 दिसम्बर 2007 को पिछले रिकॉर्ड धारक शेन वार्न को भी पीछे छोड़ दिया था। इससे पहले मुरलीधरन ने पहले यह रिकॉर्ड उस समय कायम किया था जब उन्होंने 2004 में कोर्टनी वॉल्श के 519 विकेटों को पीछे छोड़ा था, लेकिन उसी साल बाद में उनके कंधे में चोट लगी और तब फिर से वार्न उनसे आगे निकल गए थे।

पढ़ें इसे भी : युवराज सिंह कब बनेंगे पापा, बता दिया उनकी पत्‍नी ने

Cricket News inextlive from Cricket News Desk

Cricket News inextlive from Cricket News Desk