BAREILLY: 24 घंटे हॉरर किलिंग का एक और सनसनीखेज मामला सामने आया है. शाही के बाद अब बहेड़ी के गांव नदेली में झूठी शान की खातिर नाबालिग की गला दबाकर हत्या कर दी गई. किशोरी की हत्या के बाद परिजन गांव के श्मशान घाट पर उसका अंतिम संस्कार कर रहे थे. सूचना पर पहुंची पुलिस ने पानी से चिता की आग ठंडी कर अधजली लाश को कब्जे में ले लिया. हॉरर किलिंग की सूचना पर आईजी वीके ठाकुर, एसएसपी जोगेन्द्र कुमार, एसपीआरए डॉ. सतीश कुमार पुलिस फोर्स के साथ मौके पर पहुंचे और हिरासत में लिए गए मृतका के मां-बाप से पूछताछ की. मामला दो समुदाय से जुड़ा होने के कारण गांव को छावनी बना दिया गया है.

सूचना पर पहुंची यूपी 100

नदेली गांव निवासी पूरनलाल गंगवार उर्फ छवि पत्नी भगवान देवी, एक बेटा और एक बेटी के साथ गांव में रहते थे. पूरनलाल खेती तो बेटी हाईस्कूल की पढ़ाई करती थी. होली पर गांव में झोलाछाप रईस अहमद के साथ पूनम गंगवार फरार हो गई, तो परिजनों ने उसकी पढ़ाई छोड़वा दी थी. किशोरी को ननिहाल से उसके पिता संडे को लेकर घर पहुंचे थे. क्योंकि उसके सीडब्ल्यूसी कोर्ट में मंडे को बयान होने थे. किशोरी जब घर पहुंची तो मां-बाप उसे दूसरी जगह शादी की बात कहकर समझाने लगे, लेकिन किशोरी प्रेमी के साथ रहने की जिद पर अड़ी रही. इससे गुस्साए मां-बाप ने किशोरी की गला दबाकर हत्या कर दी. भोर में उसे गांव के ही श्मशान भूमि में ले जाकर जला दिया. इसकी सूचना जैसे ही ग्रामीणों को लगी तो किसी ने यूपी 100 पुलिस को सूचना दे दी. सूचना मिलते ही यूपी 100 पुलिस मौके पर पहुंची और श्मशान भूमि में जल रहे शव को पुलिस ने पानी से बुझाया और शव को पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया.

विसरा किया गया प्रिजर्व

वारदात को गंभीरता से लेते हुए उच्चाधिकारियों ने मौके पर फील्ड यूनिट को बुला लिया. फील्ड यूनिट को किशोरी के घर से बेड पर पड़ी साड़ी में ब्लड लगा हुआ मिला. साथ ही, बेड की चादर व बर्तनों से साक्ष्य जुटाए. वहीं, पीएम रिपोर्ट में गला घोंटकर हत्या की बात स्पष्ट नहीं हो सकी. फिलहाल, विसरा प्रिजर्व कर लिया गया है.

साइड स्टोरी

पड़ोसी भी घर छोड़कर फरार

गांव में किशोरी की हत्या की जानकारी जैसे ही पड़ोसियों को लगी तो वह डर के चलते घर बंद कर फरार हो गए. पुलिस अफसर मामले की तफ्तीश के लिए जब गांव पहुंचे तो उन्हें पड़ोस में एक भी महिला-पुरुष नहीं मिले. पुलिस की पूछताछ और जांच के डर से पड़ोसी घर छोड़कर फरार हो गए थे. कई घरों में अफसरों को ताला लगा हुआ मिला. पुलिस ने बताया कि पूछताछ में मां ने कुबूल किया है कि बेटी के न मानने पर पिता ने गला घोंट दिया था, जिससे उसकी मौत हो गई थी.

ग्रामीण कुछ बोलने को तैयार नहीं

गांव में किशोरी की हत्या के बाद पुलिस ने ग्रामीणों से जानकारी लेनी चाही तो ग्रामीण इस मामले में कुछ बोलने से कतराते नजर आए. जिसके बाद पुलिस ने मामले में माता-पिता के खिलाफ 302, 201, 34 आईपीसी के तहत मुकदमा दर्ज कर किशोरी की मां को हिरासत में ले लिया है, जबकि उसका पिता फरार हो गया.

सीडब्ल्यूसी में किशोरी के होने थे बयान

पुलिस ने बताया कि किशोरी के बयान कोर्ट में और सीडब्लयूसी में कराने के बाद उसे परिजनों को सौंपा गया था, लेकिन किशोरी के 15 अप्रैल को फिर से सीडब्ल्यूसी (चाइल्ड वेलफेयर सोसायटी) में बयान होने थे. संडे की वजह से 16 को बयान होना था, जिसके चलते किशोरी के पिता उसे घर पर लेकर आए थे.

दूसरी जगह कराना चाह रहे थे शादी

किशोरी के परिजन उसकी शादी की तैयारी में लगे हुए थे. बताया जा रहा है कि वह किशोरी की शादी दूसरी जगह करना चाह रहे थे, जिसके लिए वह किशोरी पर दबाव भी डाल रहे थे. लेकिन किशोरी इस बात को मानने को तैयार नहीं थी, जिसके चलते उसे अपनी जान गंवानी पड़ी.

दो मार्च को प्रेमी संग हुइर् थी फरार

ज्ञात हो 2 मार्च को होली के दिन नदेली गांव निवासी पूरन लाल गंगवार की 16 वर्षीय बेटी पूनम गंगवार गांव के ही दूसरे समुदाय के झोलाछाप डॉक्टर रईस अहमद के साथ फरार हो गई थी. इस मामले में किशोरी के परिजनों ने तीसरे दिन प्रेमी और उसके रिश्तेदारों के घरों में आग लगा दी. इस घटना के बाद गांव में तनाव हो गया, जिसके बाद पुलिस ने दोनों तरफ से मुकदमे दर्ज किए थे. पुलिस ने किशोरी के परिजनों की तरफ प्रेमी पर पॉक्सो की भी कार्रवाई की थी. साथ परिजनों पर भी केस दर्ज किया था. रिपोर्ट दर्ज करने के बाद पुलिस ने प्रेमी जोड़े को मुजफ्फरनगर से बरामद कर लिया था. पुलिस ने युवती के बयान के आधार पर उसको मामा के सुपुर्द कर दिया था. जबकि युवक को इस मामले में जेल भेज दिया था.

पुलिस ने मृतका किशोरी के पिता और मां दोनों को हिरासत में ले लिया है. मां-बाप के खिलाफ एफआईआर दर्ज कर ली गई है. दोषियों को बख्शा नहीं जाएगा.

जोगेन्द्र कुमार, एसएसपी

Crime News inextlive from Crime News Desk