कैमरे की तस्वीर बहुत बढ़िया नहीं लगेगी, उसकी रफ़्तार धीमी हो सकती है और चार्ज करने के बाद भी वो दिन भर नहीं चलेगा. एंड्राइड स्मार्टफोन के लिए ये कोई नई बात नहीं है.

आइए आपको वो चार बड़ी वजह बताते हैं जिसके कारण आपको नया स्मार्टफोन खरीदने की ज़रूरत महसूस होगी.

हो सकता है बैटरी बदलकर स्मार्टफोन में थोड़े दिन के लिए नयी जान फूंक दें. पर पुराना होने के बाद एंड्राइड फ़ोन का मज़ा फ़ीका ज़रूर हो जाता है.
नया स्मार्टफोन ख़रीदने से पहले पुराने को परखें

बैटरी आपके स्मार्टफोन की जान के सामान होती है. लेकिन जब बैटरी चार्ज करते समय गर्म होने लगती है इसका मतलब है कि आपको अब नए फ़ोन के लिए सोचना शुरू करना चाहिए. कम से कम बैटरी तो बदलनी ही होगी.

किसी भी बैटरी को आप करीब 500 बार रीचार्ज कर सकते हैं. ऐसा होते-होते आप ये देखेंगे कि बैटरी को बिना फिर से चार्ज किए पूरे दिन काम करना मुश्किल है.

गूगल प्ले स्टोर से आप बैटरी मॉनिटर विजेट भी डाउनलोड करके अपने स्मार्टफोन की बैटरी पर नज़र रख सकते हैं. ये सबसे बढ़िया तरीका है बैटरी पर नज़र रखने का.
नया स्मार्टफोन ख़रीदने से पहले पुराने को परखें

स्मार्टफोन के काम करने की रफ़्तार आपके इस्तेमाल करने के 12-18 महीने के अंदर धीमी हो जाती है.

जो भी ऐप अपने डाउनलोड किए हैं या वेबसाइट अपने ब्राउज़ किए हैं, उनकी कैश फाइल स्मार्टफोन पर जमा हो जाती हैं.

स्मार्टफोन को बढ़िया स्थिति में काम करने के लिए उसमें ज़्यादा से ज़्यादा स्पेस होना बढ़िया होता है.
नया स्मार्टफोन ख़रीदने से पहले पुराने को परखें

किसी फ्री क्लाउड सर्विस को आप अपने स्टोरेज का जिम्मा दे सकते हैं. जिस ऐप की आपको ज़रूरत नहीं हैं उन्हें डिलीट कर देना बढ़िया होता है.

एनिमेटेड स्क्रीन सेवर या बैकग्राउंड के इस्तेमाल से ज़्यादा प्रोसेसिंग पावर की ज़रूरत होती है और बैटरी की ख़पत भी बढ़ती है.

स्टोरेज की कमी कई वजह से हो सकती है. एप्पल के 8 और 16 गीगाबाइट स्टोरेज वाले फ़ोन में अक्सर ये दिक्कत देखी जाती है.

एंड्राइड डिवाइस को अब आप आसानी से एक यूएसबी स्टोरेज डिवाइस से कनेक्ट करके बैकअप ले सकते हैं.

ऐसे में क्लाउड स्टोरेज काफी काम के होते हैं. अगर आप ऐसे क्लाउड सर्विस में मैन्युअल स्टोर करने की सेटिंग ऑन कर देंगे तो आप एप्पल के 8 और 16 गीगाबाइट स्टोरेज से भी काम चला सकते हैं.
नया स्मार्टफोन ख़रीदने से पहले पुराने को परखें

एंड्राइड के ज़्यादातर डिवाइस में आप स्टोरेज बढ़ा सकते हैं.

पुराने होने पर स्मार्टफोन के कैमरे के लेंस पर खरोंच लग सकती है जिससे फोटो और वीडियो की क्वालिटी पर असर साफ़ दिखाई देता है.

भले ही उसका रेज़ोलुशन और लेंस सबसे बढ़िया कैमरे के बराबर हों लेकिन फिर भी फोटो पर निशान देखकर आपको बढ़िया नहीं लगेगा.

अगर स्मार्टफोन पुराना हो गया है तो उसके कैमरे को भी बदलना बहुत बढ़िया नहीं होगा. अगर आप काफ़ी फोटो और वीडियो लेने वालों में से एक हैं तो ऐसे में दूसरा स्मार्टफोन लेने के अलावा आपके पास कोई और विकल्प नहीं होगा.

How To News inextlive from How To Desk

Technology News inextlive from Technology News Desk