शराब बंदी के बाद ट्रक में बना डाला शराब का तहखाना

By: Inextlive | Publish Date: Wed 08-Nov-2017 04:12:21   |  Modified Date: Wed 08-Nov-2017 04:14:01
A- A+
शराब बंदी के बाद ट्रक में बना डाला शराब का तहखाना
-सुरक्षा देने के लिए आगे पीछे चलती थी लग्जरी गाडि़यां और बीच में चलता था खुफिया ट्रक -गिरोह के पकड़े जाने से राज्य के कई और बड़े गिरोह के खुलासे होने की संभावना -गिरोह का मास्टर माइंड अभी भी पुलिस की गिरफ्त से बाहर

PATNA: शराब माफिया और पुलिस के बीच तू डाल-डाल मैं पात-पात वाली खेल चल रही है. शराब तस्कर एक से एक तरीका अपना रहे हैं. पटना पुलिस ने गुप्त सूचना पर खुशरूपुर थाना के लोदीपुर से जब शराब से भरे खाली ट्रक को क?जे में लिया तो शराब स्पलाई करने के तरीके को देख कर पुलिस भी भौचक रह गई. पुलिस ने 9ख्0 बोतल अंग्रेजी शराब के साथ भ् तस्कर को भी गिरफ्तार किया है. इस गिरफ्तारी को पुलिस शराब तस्कर पर अब तक की सबसे बड़ी कारवाई मान रही है.

कैसे हुई गिरफ्तारी

जानकारी के मुताबिक एसएसपी को किसी ने फोन पर सूचना दी थी कि नालंदा-पटना फोरलेन पर शराब भरा ट्रक पटना की ओर जा रहा है. फतुहा एसडीपीओ के नेतृत्व में टीम बनाकर जिम्मेदारी दी गई. पुलिस के मुताबिक इस गैंग को पकड़ना काफी मुश्किल था क्योंकि अलग अंदाज में शराब पहुंचा रहा था. जिस ट्रक के बारे में सूचना मिली थी वह खाली दिख रहा था. लेकिन ट्रक के आगे चल रही कार की स्पीड पुलिस की गाड़ी दिखते ही स्पीड हो गई. पुलिस ने पहले कार को क?जे में लिया. उसमें सवार लोगों से पूछताछ के बाद ट्रक के अलावा एक अन्य कार को भी गिरफ्त में लिया गया.

शक की गुंजाइश नहीं

पुलिस गिरफ्त में आए आरोपियों ने बताया कि गैंग का नेटवर्क बड़े लेवल का है. प्रदेश के कई बड़े सप्लायर के तार इस गैंग से जुड़े हैं. गैंग का मास्टर माइंड राजू शाह नालंदा का रहने वाला है. शराब झारखंड, पश्चिम बंगाल और हरियाणा से मंगवाता था. ऑन डिमांड बिहार के हर हिस्से में पहुंचाता था.

बदलते रहता था तरीका

हर बार तरीका बदल कर काम को अंजाम देता था. लेकिन मुख्य रूप से खाली ट्रक से ही शराब की सप्लाई करता था ताकि ट्रक को खाली देखकर किसी को शक न हो. उसने कई ट्रक खरीद रखा है. ट्रक में इस तरह से बड़ा एरिया बनवाया गया है जिससे हजार बोतल शराब को ढोया जा सके. हमेशा दो फैमिली कार के बीच ट्रक को चलाता था. जिससे कोई शक ही नहीं कर पाए. इस बार भी इसी तरह से आल्टो और स्वीफ्ट डिजायर के बीच ट्रक को पटना लाया जा रहा था.