delete

बच्‍चों को हाईटेक एजूकेशन देने के लिए इस सरकारी स्‍कूल टीचर ने बेच डाले अपने सारे जेवर!

By: Inextlive | Publish Date: Fri 21-Apr-2017 08:37:08   |  Modified Date: Fri 21-Apr-2017 08:43:50
- +
बच्‍चों को हाईटेक एजूकेशन देने के लिए इस सरकारी स्‍कूल टीचर ने बेच डाले अपने सारे जेवर!
सरकारी स्‍कूल तो आपने देखे ही होंगे। वहां के टीचर्स को भले ही सरकार अच्‍छी खासी सैलरी दे रही हो, लेकिन स्‍टूडेंट्स को बेहतर शिक्षा देने के लिए सरकारें वहां के बच्‍चों के लिए कोई बड़ी सुविधा छोड़िए, मूलभूत सुविधाएं भी नहीं दे पाती। ऐसे ही एक सरकारी स्‍कूल की टीचर ने जब अपने स्‍टूडेंट्स को बेहतर और हाईटेक ऐजूकेशन देने के लिए अपने सारे जेवर बेच डाले तो उसे देख पूरी दुनिया कह रही है कि टीचर हो तो ऐसा।

अपने सारे जेवर बेचकर अन्‍नपूर्णा ने बदल दी बच्‍चों की जिंदगी
किसी सरकारी स्‍कूल के क्‍लासरूम में लगा स्‍मार्ट डिजिटल बोर्ड आपने पिछली बार कब देखा था। आप कहेंगे कि क्‍या मजाक कर रहे हो। सरकारी प्राइमरी स्‍कूलों में बैठने के लिए अच्‍छी कुर्सी मेज मिल जाए तो बड़ी बात है स्‍मार्ट डिजिटल टीचिंग बोर्ड तो वहां के लिए एक सपना ही है। वैसे तमिलनाडु के विल्‍लुपुरम में पंचायत यूनियन प्राइमरी स्‍कूल देखने के बाद आप ऐसा नहीं कहेंगे। यहां बच्‍चों के बैठने के लिए प्राइवेट स्‍कूलों जैसा बेहतरीन फर्नीचर तो है ही, साथ में यहां के बच्‍चे फर्राटेदार इंग्‍लिश में बात करते हुए स्‍मार्ट एजूकेशन लेते हैं। यह सब कुछ पॉसिबल हुआ है यहां की टीचर अन्‍नपूर्णा मोहन के दिल छू लेने वाले प्रयासों से। अन्‍नूपूर्णा ने अपने स्‍टूडेंट्स को बेहतरीन एजूकेशन देने के लिए अपने सारे जेवर बेच डाले और उन पैसों ने उन्‍होंने इस स्‍कूल के बच्‍चों को बेहतरीन फर्नीचर, किताबें, खूबसूरत क्‍लासरूम और स्‍मार्ट डिजिटल टीचिंग उपलब्‍ध कराई है। Source

अन्‍नपूर्णा के सारे स्‍टूडेंट्स बोलते हैं फर्राटेदार अंग्रेजी
टीचर अन्‍नपूर्णा ने अपने स्‍टूडेंट्स्‍ के लिए सिर्फ जेवर ही नहीं बेचे बल्‍कि वो उन बच्‍चों की जिंदगी बनाने के लिए रात दिन जुटी रहती हैं। उनकी हाईटेक और इंटरएक्‍टिव टीचिंग का नतीजा है कि आज उनके स्‍टूडेंट्स प्राइवेट स्‍कूलों के बच्‍चों की तरह बेहतरीन अंग्रेजी बोल लेते हैं। अपने क्‍लास में होने वाली टीचिंग और बच्‍चों की इंटरएक्‍टिव लर्निंग का वीडियो बनाकर अन्‍नपूर्णा अपने फेसबुक पेज पर डालती ही रहती हैं। उनके बेहतरीन प्रयासों का ही नतीजा है कि अब तमिलनाडू ही नहीं पूरे देश से तमाम लोग इस स्‍कूल और इसके बच्‍चों की बेहतरी के लिए बहुत सारा पैसा देने को तैयार हो चुके हैं। Source

दुनिया की सफल हस्तियां जो पढ़ाई पूरी नहीं कर सकीं


अन्‍नपूर्णा को देखकर कहना पड़ेगा कि सरकारी से लेकर प्राइवेट स्‍कूलों में अगर ऐसे ही सच्‍चे, ईमानदार और डेडीकेटेड टीचर मौजूद हों तो हमारे बच्‍चों का भविष्‍य वाकई शानदार होगा।

ये हैं दुनिया की मोस्‍ट डिमांडिंग जॉब, चाहिए निश्‍चित नौकरी तो इन्‍हें चुनें करियर

4 साल की नैंसी ने रुकवाया पीएम मोदी का काफिला, फिर जो हुआ, देखकर इमोशनल हुए लोग

Interesting News inextlive from Interesting News Desk