दोनों महासागरों का पानी नजर आता है अलग अलग रंगों का!

इस दुनिया में मौजूद सात अलग-अलग महाद्वीप और उनके बीच फैले 5 अनंत महासागर इस धरती को जबरदस्त विविधता और खूबसूरती प्रदान करते हैं। वैसे यह बात शायद आप जानते ही होंगे कि इंडियन ओसीन यानी हिंद महासागर और पैसिफिक ओसीन यानी प्रशांत महासागर अलास्का की खाड़ी में एक दूसरे से मिलते हैं, लेकिन क्‍या आपको यह मालूम है कि इन दोनों के मिलन का यह नजारा दुनिया में सबसे अनोखा है, क्योंकि इन दो महासागरों का पानी आपस में मिक्स ना होकर बिल्कुल अलग अलग रंगों का नजर आता है। यहां से गुजरने वाले पानी के जहाजों से यह नजारा साफ दिखता है, जो हैरान कर देता है। हिंद और प्रशांत महासागर की इस आपसी सीमा पर पानी के दो अलग-अलग रंग साफ नजर आते हैं। एक ग्‍लेशियर से आने वाला हल्‍का नीला पानी तो दूसरा दूर समंदर से आने वाला गहरा नीला पानी साथ ही इन दोनो के मिलन स्‍थल पर झाग की एक दीवार साफ नजर आती है। इस जगह की कुछ शानदार तस्वीरें साल 2010 में इंटरनेट पर खूब वायरल हो चुकी हैं, जब फोटोग्राफर केंट स्मिथ ने यहां की तस्वीरें ली और दुनिया के साथ शेयर कीं।

हिंद महासागर और प्रशांत महासागर आपस में मिलते जरुर है पर दिखते अलग हैं! नजारा है कमाल का

कान में मोबाइल या इयरफोन नहीं, सिर्फ उंगली लगाकर होगी कॉलिंग, ये है तरीका

दोनों महासागर का पानी अलग अलग दिखने की क्या है वजह!

आपको बता दें कि इन दोनों महासागरो का पानी एक दूसरे से बिल्कुल अलग दिखने के पीछे जो वजह है, वो पानी के घनत्व और उसके तापमान समेत कई बातों से जुड़ा हुआ है। इन दोनों महासागरो के दिखने वाले अलग-अलग पानी को लेकर वैज्ञानिकों द्वारा अब तक तमाम रिसर्च की जा चुकी हैं और फाइनली वैज्ञानिकों ने यह निष्कर्ष निकाला है। वैज्ञानिक मानते हैं कि इस जगह पर खारे और मीठे पानी के अलग अलग घनत्व और उनमें मौजूद लवण तथा उनके तापमान के अलग होने के कारण यह दोनों पानी आपस में पूरी तरह से मिक्स नहीं हो पाते। प्रशांत महासागर का पानी ग्‍लेशियर से आने के कारण हल्‍का नीला और नमक रहित होता है, जबकि हिंद महासागर का पानी काफी खारा होता है। समंदर के अंदर भले ही दोनो महासागर का पानी पूरी तरह से तक मिल जाता हो लेकिन ऊपरी सतह पर इन दोनों महासागरो के भिन्‍न घनत्‍व वाले पानी के टकराने से कुछ झाग पैदा होता रहता है और यह झाग पानी ऊपर सतह पर एक बॉर्डर की तरह नजर आता है। सूरज की रोशनी में खारे और मीठे पानी के अलग-अलग घनत्व के कारण दोनों पानी का रंग एक दूसरे से बिल्कुल अलग नजर आता है।

 

अब हाथ नहीं, दिमाग के सिग्‍नल से चलेगी आपकी कार! इस कंपनी ने लॉन्‍च की चौंकाने वाली टेक्‍नोलॉजी

कुछ और भी हैं मान्‍यताएं!

हिंद महासागर और प्रशांत महासागर के इस मिलन स्थल पर पानी की दीवार और अलग अलग रंगों के पानी का यह नजारा वाकई दुनिया को चौंकाने वाला है। तमाम लोग तो इसे चमत्कार मानते हैं तो कुछ लोग इसे कुछ धार्मिक मान्यताओं से भी जोड़ते हैं। हालांकि वैज्ञानिकों के अनुसार ऐसा बिल्कुल भी नहीं है और यह दोनों महासागर कहीं ना कहीं जाकर तो आपस में पूरी तरह मिल ही जाते हैं बस समुद्र की ऊपरी सतह पर अलग अलग घनत्‍व वाले पानी के टकराने से पैदा होने वाली है दीवार दोनों महासागरों के अलग होने का अनोखा और विस्मयकारी नजारा पेश करती है।

आपके स्‍मार्टफोन की मेमोरी हो जाएगी 1 TB, बस करना होगा ये काम

International News inextlive from World News Desk