IPL 10: शाहरुख खान ने किया बड़ा सवाल, क्या रात दो बजे क्रिकेट खेलने का वक्त है?

By: Inextlive | Publish Date: Fri 19-May-2017 02:59:08
A- A+
IPL 10: शाहरुख खान ने किया बड़ा सवाल, क्या रात दो बजे क्रिकेट खेलने का वक्त है?
शाहरुख ने आईपीएल नियमों पर उठाए सवाल, कहा, प्लेऑफ के लिए रिजर्व दिन होना चाहिए। रात दो बजे क्रिकेट खेलना कहां तक सही है?

बेंगलुरु में दर्शक इंतजार कर रहे थे। बरसात की हर बूंद उनके इंतजार और निराशा को बढ़ा रही थी। हर किसी के मन में सवाल था कि क्वालीफायर और एलिमिनेटर के लिए रिजर्व दिन क्यों नहीं है? दिलचस्प है कि ये सवाल उस टीम ने भी उठाए हैं, जो जीतकर एलिमिनेट यानी बाहर होने से बच गई है। कोलकाता नाइटराइजर्स के मालिक और बॉलीवुड एक्टर शाहरुख खान ने कहा है कि प्लेऑफ  के लिए रिजर्व दिन होना चाहिए। केकेआर टीम के तेज गेंदबाज नाथन कूल्टर नाइल का भी कहना है कि रात के दो बजे का वक्त क्रिकेट खेलने के लिए नहीं होता। गौरतलब है कि बुधवार को खेला गया एलिमिनेटर मुकाबला मैच देर रात एक बजकर 30 मिनट पर खत्म हुआ था।

3 घंटे बाद शुरू हुई दूसरी पारी

बुधवार देर रात आईपीएल में खेले गए कोलकाता और सनराइजर्स हैदराबाज के बीच हुए एलिमिनेटर मैच में बारिश ने खलल डाला। मैच की दूसरी पारी तकरीबन तीन घंटे से ज्यादा इंतजार के बाद शुरू की गई। मौजूदा चैंपियन हैदराबाद ने पहले बल्लेबाजी करते हुए निर्धारित 20 ओवर्स में सात विकेट खोकर 128 रन बनाए थे, लेकिन पहली पारी के अंत होने तक बारिश ने दस्तक दी जो बाद में तेज हो गई। इसी कारण दूसरी पारी देर से शुरू हुई। मैच देरी से होने के कारण कोलकाता को छह ओवर्स में 48 रनों का संशोधित लक्ष्य मिला। कोलकाता ने इस लक्ष्य को चार गेंद बाकी रहते हुए हासिल कर लिया।

नियमों पर गौर करने की जरूरत

शाहरुख मैच के दौरान स्टेडियम में मौजूद थे। उन्होंने मैच के बाद गुरुवार को ट्वीट किया, 'आज रात (बुधवार रात) विनर टीम का हिस्सा बनकर खुश हूं, लेकिन मैच रद होने की हालत में प्लेऑफ  के लिए एक एक्स्ट्रा दिन होना चाहिए। महान बल्लेबाज सुनील गावस्कर ने भी मैच के बाद कहा कि हैदराबाद के पास दुनिया का बेस्ट बॉलिंग अटैक ही क्यों न होता, फिर भी 10 विकेट होते हुए 48 रन बचाना लगभग नामुमकिन सी बात है।

नाथन कूल्टर नाइल ने कहा कि आईपीएल के नियमों पर फिर से गौर करने की जरूरत है। कूल्टर नाइल ने कहा, 'तब तक कोई नर्वस नहीं था जब वे रात 12 बजकर 40 मिनट पर आखिरी बार निरीक्षण के लिए गए। ऐसा लग रहा था कि मैं खेलना नहीं चाहता हूं। समय काफी था और नियमों पर गौर करना चाहिए। मेरे कहने का मतलब है कि सुबह दो बजने वाले थे। आप तड़के दो बजे क्रिकेट नहीं खेल सकते।

Cricket News inextlive from Cricket News Desk