कराची को यूं ही पाकिस्तान की व्यापारिक राजधानी नहीं कहा जाता है। इन दिनों ये शहर एक्स्पो पाकिस्तान 2017 की मेजबानी कर रहा है। इसी सिलसिले में 9 नवंबर से 12 नवंबर तक चार दिनों तक चलने वाले फ़ैशन शो का भी आयोजन किया जा रहा है।

मेड इन पाकिस्तान: रैंप की झलकियां

इस फ़ैशन इवेंट को 'मेड इन पाकिस्तान' का नाम दिया गया है। एक्स्पो पाकिस्तान में शिरकत करने के लिए पांच देशों से सैकड़ों लोग इकट्ठा हुए हैं और इन सब के बीच फ़ैशन की खुमारी। आयोजकों का कहना है कि इसका मक़सद पाकिस्तानी डिजाइनरों और उनके कलेक्शंस के लिए विदेशी बाज़ारों की तलाश करना है।

मेड इन पाकिस्तान: रैंप की झलकियां

आयोजक इसके जरिए पाकिस्तान की फ़ैशन इंडस्ट्री को बढ़ावा देना चाहते हैं। उनकी ख्वाहिश है कि ऐसी कोशिशों से नए और उभरते हुए डिजाइनरों को बढ़िया प्लेटफ़ॉर्म मिले और पाकिस्तान का फ़ैशन उद्योग अंतरराष्ट्रीय बाज़ारों में अपनी जगह बना सके।

मेड इन पाकिस्तान: रैंप की झलकियां

मेड इन पाकिस्तान फ़ैशन वीक इस लिहाज अपनी तरह का पहला इवेंट है। इसे पाकिस्तान के उभरते हुए फ़ैशन डिजाइनरों के लिए एक बड़े मौके की तरह देखा जा रहा है। इसमें आमिर अदनान, आमना अकील, हसन रियाज़, टीना दुर्रानी, दीपक पेरवानी जैसे डिजाइनर अपने कलेक्शंस पेश कर रहे हैं।

मेड इन पाकिस्तान: रैंप की झलकियां

ये डिजाइन पाकिस्तानी फ़ैशन डिजाइनर दीपक पेरवानी है। दीपक पेरवानी फ़ैशन के अलावा अभिनय और राजनीति में भी दखल रखते हैं। वे पाकिस्तान के हिंदू-सिंधी समाज से ताल्लुक रखते हैं। दुनिया का सबसे बड़ा कुर्ता बनाने के लिए उनके नाम से एक गिनेस वर्ल्ड रिकॉर्ड भी दर्ज है।

मेड इन पाकिस्तान: रैंप की झलकियां

पाकिस्तान की अर्थव्यवस्था में कपड़ा उद्योग की अहम भूमिका है। पाकिस्तानी कपड़ा उद्योग की निर्भरता निर्यात पर ज़्यादा है पर हाल के दिनों में इसमें ख़ासी गिरावट हुई है। जानकारों का कहना है कि बांग्लादेश, कम्बोडिया, श्रीलंका और वियतनाम जैसे देशों से पाकिस्तानी कपड़ा उद्योग को कड़ी प्रतिस्पर्धा मिली है।

मेड इन पाकिस्तान: रैंप की झलकियां

ये डिजाइन पाकिस्तानी फ़ैशन हाउस 'द पिंक ट्री कंपनी' ने पेश की है। ये फ़ैशन हाउस पारंपरिक पाकिस्तानी फ़ैशन को नए मिजाज और नए कलेवर के साथ पेश करने का दावा करता है।

मेड इन पाकिस्तान: रैंप की झलकियां

पाकिस्तानी फ़ैशन हाउस 'द पिंक ट्री कंपनी' की एक और कलेक्शन। 'द पिंक ट्री कंपनी' का कहना है कि उसने पाकिस्तानी फ़ैशन में सिंधी कपड़े सुसी और हाथ से बुने सूती कपड़े खद्दड़ को फिर से चलन में लाया है।

मेड इन पाकिस्तान: रैंप की झलकियां

International News inextlive from World News Desk