एक ह‍िरण के ल‍िए भ‍िड़े बाघ और तेंदुआ, कोई नहीं मान रहा था हार घंटों लड़ने के बाद एक ने गवां दी जान

By: Shweta Mishra | Publish Date: Thu 15-Feb-2018 01:56:53
A- A+
एक ह‍िरण के ल‍िए भ‍िड़े बाघ और तेंदुआ, कोई नहीं मान रहा था हार घंटों लड़ने के बाद एक ने गवां दी जान
एक ह‍िरण के ल‍िए बाघ और तेंदुए की लड़ाई वाली बात सुनकर हो सकता आपको हैरानी हो रही हो लेकिन यह सच है। यह घटना बिहार के वाल्मीकि ब्याघ्र परियोजना में हुई है। घटना स्‍थल को देखकर साफ है क‍ि इस लड़ाई में कोई हार मानने का तैयार नहीं हुआ और इसका अंत दर्दनाक हुआ। यहां पढ़ें पूरा मामला...

बाघ ने एक हिरण का श‍िकार क‍िया
बिहार के पश्चिमी चंपारण जिले के बगहा में बाघ और तेंदुए की लड़ाई का मामला काफी चर्चा में है। यहां पर वाल्मीकि ब्याघ्र परियोजना के कक्ष संख्या 34 एवं 37 के मध्य दरूआबारी के जंगल में इस लड़ाई में तेंदुए की मौत हो गई है। घटना स्‍थल के हालातों को देखकर यही कहा जा रहा है क‍ि यहां पर बाघ ने अपने भोजन में एक चीतल हिरण का श‍िकार क‍िया था।

तेंदुए को अपनी जान गंवानी पड़ी

इसके बाद उसने अपना भोजन दो-तीन बाद खाने के ल‍िए रख द‍िया था क्‍योंक‍ि बाघ जल्‍दी ताजा श‍िकार नहीं खाता है। ऐसे में जब कुछ समय बाद अपने श‍िकार के पहुंचा तो उस दौरान वहां पर तेंदुआ ह‍िरण को खा रहा था। इस पर बाघ ने उस पर हमला कर द‍िया। इसके बाद दोनों के बीच दोपहर में शुरू हुई लडाई शाम तक चली और तेंदुए को अपनी जान गंवानी पड़ी।

शव का अंतिम संस्कार हो गया
वहीं इस संबंध में बाल्मीकि व्याघ्र परियोजना के सहायक वन संरक्षक आर के सिन्हा का कहना है क‍ि इस पूरे मामले का अनुमान घटनास्थल को देखने के बाद लगाया जा रहा है। मृत तेंदुए के शरीर पर बाघ के पंजे के निशान हैं। इसके अलावा आसपास की जमीन पर खून बिखरा पड़ा है। तेंदुए के शव को पोस्टमार्टम के पश्चात अंतिम संस्कार कर द‍िया गया है।

यहां रेस्‍टोरेंट चलाने के साथ टीचर बन बैठा था खूंखार आतंकी आर‍िज, अब बताएगा बटला हाउस एनकाउंटर का सच

National News inextlive from India News Desk

खबरें फटाफट