- अपराधों पर नियंत्रण को बनेगी रणनीति: डीजीपी

आगरा. हर जिले में तकनीकी और मैनुअली मुखबिर तंत्र को मजबूत किया जाएगा. वैसे हमारा सबसे बड़ा मुखबिर तंत्र तो आम पब्लिक है. अधिकारियों को निर्देश दिए गए हैं कि वे आम पब्लिक से बेहतर तालमेल बनाएं. ज्यादातर वारदातों के खुलासे में पब्लिक की भूमिका सराहनीय रही है. ये कहना था प्रदेश के डीजीपी सुलखान सिंह का. वे गुरुवार को सर्किट हाउस में मंडल की कानून व्यवस्था की समीक्षा करने के बाद पत्रकारों से मुखातिब थे.

कुछ दिन में सुधरेंगे हालात

पुलिस महानिदेशक ने कहा कि कुछ अंदरूनी कमियां हैं, उनको जल्द ही दूर किया जाएगा. अपराध नियंत्रण के लिए ठोस रणनीति बनाकर कार्रवाई होगी. अभी अधिकारियों का ट्रांसफर किया गया है. कुछ ही दिनों में सब व्यवस्थित हो जाएगा. उन्होंने मथुरा डकैती कांड के जल्द खुलासे की बात कही. डीजीपी ने कहा कि पुलिस बदमाशों के काफी नजदीक पहुंच चुकी है.

काम नहीं करने वाले अधिकारी हटेंगे

डीजीपी ने कहा कि काम नहीं करने वाले अधिकारियों को हटा दिया जाएगा. उन्होंने अधीनस्थों से कहा कि बीट के सिपाही डायरी मेंटेंन करें. गांव में सिपाही जाएं तो ग्रामीणों के हस्ताक्षर व मोबाइल नम्बर नोट करें. जल्द ही परिवर्तन देखने को मिलेगा. हमको जनता की सुरक्षा के समय जोखिम भी उठाना पड़ता है. पुलिस पर हमला के सवाल पर उनका कहना था कि ये पुलिस की कमी है.अगर कहीं जरूरत है, तो फोर्स लगाएं. पीएसी की तैनाती करें. इसके लिए जिला स्तर पर स्वयं निर्णय लें. उन्होंने कहा कि अभी मैंने आगरा मंडल की कानून व्यवस्था की समीक्षा की है. ये मेरा पहला आगरा दौरा है. जल्द आपको परिवर्तन देखने को मिलेगा. 1090 में महिला आरक्षियों को प्रशिक्षण दिया जा रहा है.