JAMSHEDPUR: महात्मा गांधी मेमोरियल (एमजीएम) मेडिकल कॉलेज अस्पताल में आउटसोर्सिग पर तैनात स्वास्थ्य कर्मचारियों ने शनिवार को दो घंटे काम बाधित रखा. सुबह 10 से 12 बजे तक वे लोग काम-काज ठप कर अस्पताल परिसर में आगे की रणनीति तैयार करते दिखे. इसमें बिजली मिस्त्री भी शामिल थे. वहीं, इससे पहले ही सुबह करीब आठ बजे से एमजीएम अस्पताल की बिजली गुल हो गई थी. बर्न वार्ड में सात घंटे तक एयर कंडीशन बंद रहा, जिसके कारण मरीज जलन से छटपटाते दिखे. इस दौरान हड्डी रोग, सर्जरी, ब्लड बैंक, बर्न यूनिट व एएनएम स्कूल में दोपहर तीन बजे तक बिजली नहीं थी. इससे मरीजों के साथ-साथ कर्मचारियों को भी परेशानी हुई. बिजली कर्मचारियों का कहना है कि तार जल जाने की वजह से यह समस्या उत्पन्न हुई थी. उसे दुरुस्त कर दोबारा चालू किया गया. हड़ताल में आउटसोर्स पर तैनात बिजली मिस्त्री भी शामिल थे. इस वजह से बिजली का कनेक्शन देने में भी काफी देर हुई. उधर, यह भी चर्चा का विषय बना रहा कि बिजली गुल होने के पीछे वहां पर तैनात बिजली मिस्त्रियों का ही हाथ है. ताकि उनकी कमी खल सके और हड़ताल का भी असर दिखे. गौरतलब हो कि स्वास्थ्य कर्मियों ने हड़ताल पर जाने का एलान पहले किया था, लेकिन अधीक्षक द्वारा उचित आश्वासन मिलने के बाद वे लोग वापस काम पर लौट गए.

सर्जरी व हड्डी रोग विभाग में ड्रेसिंग ठप

बिजली गुल होने की वजह से सर्जरी व हड्डी रोग विभाग में अधिकतर मरीजों की ड्रेसिंग नहीं हो सकी. सिर्फ इक्का-दुक्का मरीज का ही ड्रेसिंग हुआ, जिन्हें हल्की चोट थी. बर्न वार्ड में सात घंटे तक एयर कंडीशन बंद रहा, जिसके कारण मरीज जलन से छटपटाते दिखे. वहीं, सर्जरी विभाग में ऑक्सीजन पाइप लाइन भी बंद रहा. साथ ही साफ-सफाई करने में भी कर्मचारियों को काफी परेशानी हुई. इस दौरान चिकित्सकों से पूछने पर उन्होंने बताया कि अगर किसी मरीज को ऑक्सीजन की जरूरत पड़ती तो उनके लिए सिलेंडर ऑक्सीजन पर्याप्त मात्रा में रखा गया था. कर्मियों ने सुपरीटेंडेंट को गिनाई खामियां

- समय पर नहीं होता भुगतान.

- सरकार द्वारा हर पद के कर्मचारी को हर माह कितना भुगतान किया जाता है, उसकी कॉपी नहीं दी

- सभी कर्मचारियों का ईपीएफ नंबर उपलब्ध नहीं कराया गया है.

- कर्मचारियों को पेमेंट स्लिप उपलब्ध नहीं कराया जाता है.

आउटसोर्सिग कर्मचारियों का वेतन सोमवार तक करने का आदेश संबंधित ठेकेदार को दिया गया है. उसे 13 माह का वेतन नहीं मिलने के कारण यह समस्या उत्पन्न हुई है. कर्मचारियों द्वारा बताई गई सभी खामियों को दुरुस्त करने का निर्देश दिया गया है.

- डॉ. भारतेंदु भूषण, अधीक्षक, एमजीएम.