- शाहदरा में वर्षो से पानी का संकट, 12 लोग बेच चुके हैं घर

- अंडरग्राउंड वॉटर है खारी, जानवर भी नहीं करते इसको यूज

आगरा. भीषण गर्मी में पेयजल संकट गहरा गया है. सिटी में एक ऐसा क्षेत्र भी है जहां पानी का संकट घर बेचे जाने की वजह बन रहा है. शाहदरा में करीब 12 परिवार मकान बेच कर जा चुके हैं, तो यहां रहने वाले बूंद-बूंद पानी को तरस रहे हैं. समस्या के हल के लिए जनप्रतिनिधियों की चौखट से लेकर वाटर व‌र्क्स तक गुहार लगाई, लेकिन नतीजा सिफर रहा.

वर्षो पहले डाली गई थी पाइपलाइन

मस्जिद वाली गली, विकास नगर, शाहदरा में वर्ष 2007-08 में वाटर व‌र्क्स द्वारा पाइप लाइन डाली गई थी. तब से आज तक वहां पर सप्लाई नहीं दी जा रही. स्थानीय वाशिंदे सुंदर सिंह ने बताया कि एक बार सप्लाई दी गई थी. पानी भी आया था, लेकिन तब से आज तक सप्लाई नहीं दी जा रही है. बूंद-बूंद पानी के लिए तरस रहे हैं.

टैंकर पर दबंग का कब्जा

क्षेत्रीय लोगों ने बताया कि एक सप्ताह में एक बार पानी का टैंकर आता है, जो कि व्यक्ति विशेष के यहां पर घर के अंदर पानी देकर चला जाता है. वहीं पर पानी का स्टॉक किया जाता है. अगर और कोई पानी लेने के लिए पहुंच भी जाए, तो उसे लेने नहीं दिया जाता है. अगर कोई जिद करता है, तो उसे अपमानित होना पड़ता है. लेकिन पानी नसीब नहीं होता.

भू-जल है खारी

गोपाल सिंह ने बताया कि जमीन का पानी काफी खारी है. न तो नहाने के काम आता है और न ही पशुओं को पिलाने के. हर काम के लिए पानी खरीदना पड़ता है. भू-जल से कोई नहा नहीं पाता है. सुंदर सिंह व बालकिशन ने बताया कि अगर कोई अगर कोई भू-जल से नहा भी लेता है, तो उसके इंफेक्शन हो जाता है. इसलिए इस पानी का कोई प्रयोग नहीं करता है.

लटक गए हैं हैंडपंप

विकास नगर में कई हैंडपंप लगे हैं, जोकि महज शोपीस बने हुए हैं. जिन्हें ठीक करने के लिए अभी तक किसी ने कोई संज्ञान नहीं लिया है.

पूर्व विधायक नहीं करा सके समाधान

विकास नगर के लोगों का कहना है कि पूर्व विधायक को कई बार कॉलोनी में पानी की समस्या से अवगत कराया था, लेकिन आश्वासन के कुछ हासिल नहीं हुआ. आज भी समस्या जस की तस है. लोगों ने कहा कि मौजूदा विधायक रामप्रताप सिंह चौहान को भी समस्या से अवगत कराया जा चुका है. उन्होंने समस्या के हल के लिए आश्वासन भी दिया है.