गुमशुदा इकलौते बेटे नहीं लगा सुराग

By: Inextlive | Publish Date: Sun 13-Aug-2017 07:41:26
A- A+
गुमशुदा इकलौते बेटे नहीं लगा सुराग

- चार बहनों में था इकलौता भाई, स्कूल जाते समय वर्ष 2013 को हुआ था गुमशुदा

- रक्षाबंधन के दिन एक बार लगा था मुजफ्फर नगर में सुराग, लेकिन नहीं मिला बेटा

BAREILLY:

घर से स्कूल के निकला हाईस्कूल का छात्र प्रणव जोशी एक मई 2013 को गुम हो गया। देर शाम तक बेटा घर नहीं लौटा तो परिजनों ने तलाश की लेकिन बेटा नहीं मिला। चारों तरफ खोजने के बाद पिता ने किला थाने में गुमशुदगी दर्ज करवा दी। गुमशुदगी दर्ज करने के बाद पुलिस ने भी बच्चे को तलाशा, लेकिन कोई सफलता नहीं मिली.

घर से निकला था स्कूल को

मामला किला थाना क्षेत्र के मोहल्ला 5- लक्ष्मी नरायन रोड साहूकारा के प्रदीप कुमार जोशी के बेटे प्रणव जोशी का है। प्रदीप कुमार जोशी परिवहन निगम में कंडक्टर के पद से रिटायर हैं। उनके चार बेटियां ज्योति जोशी, स्वाति जोशी, कंचन जोशी और प्रभा जोशी है। चार बेटियों में इकलौता बेटा प्रणव जोशी था। प्रणव जोशी शहर के स्कूल जेपीएम इंटर कॉलेज से कक्षा 10 का स्टूडेंट था। पिता प्रदीप जोशी ने बताया कि बेटा प्रणव जोशी कभी- कभी साइकिल से दोस्तों के साथ स्कूल जाता था। 1 मई को प्रणव जोशी साइकिल लेकर नहीं गया वह सवारी से स्कूल जाने के लिए घर से सुबह करीब 6:30 बजे निकला था। उसके बाद घर नहीं पहुंचा.

जेब में थे 40 रुपए

गुमशुदा मां कमलेश जोशी ने बताया कि प्रणव जोशी सुबह को स्कूल जाने के लिए निकला तो उसने किराए के पैसे मांगे थे, जिस पर उन्होंने उसे किराए के लिए 40 रुपए भी दिए। दोपहर को वह जब समय से घर नहीं पहुंचा तो उसके साथियों और स्कूल में जाकर पता किया तो पता चला कि वह स्कूल सुबह पहुंचा ही नहीं। यह सुनकर मां- बाप के होश उड़ गए। मोहल्ला और आसपास में जब तलाश किया तो उसका स्कूल बैग मोहल्ला सीताराम कूंचा में पड़ा मिला। परिजनों ने इसकी जानकारी थाना पुलिस को दी तो पुलिस भी हरकत में आई, लेकिन प्रणव के बारे में कोई जानकारी नहीं मिली। उन्होंने बताया कि वह प्रणव जोशी का जन्मदिन 8 जनवरी को होता था.

रक्षाबंधन पर आया था फोन

बेटे की याद में बात करते हुए मां कमलेश की आंखों में आंसू आ गए। उन्होंने बताया कि प्रणव के गुमशुदा होने के बाद रक्षाबंधन वाले दिन बेटियां भाई को राखी बांधने के लिए इंतजार कर रही थी। तभी किसी ने मुजफ्फरनगर से 21 अगस्त 2013 को फोन किया और बताया कि प्रणव घर पहुंच गया। बेटे का नाम सुनते ही परिवार में खुशी हुई, लेकिन प्रणव नहीं पहुंचा तो परिजनों ने फोन किए गए नम्बर से मुजफ्फर नगर जाकर संपर्क किया। तो उसने बताया कि प्रणव को उसने बरेली के पहलवान नाम के युवक से 3 हजार रुपए में खरीदा था। लेकिन प्रणव रक्षा बंधन पर राखी बंधाने की बात कहकर वापस घर चला गया।

- -

गुमशुदा बच्चे की तलाश की जा रही है। पुलिस प्रयास कर रही है, कहीं सुराग लगने पर बच्चे को तलाश कर उसके परिजनों को सौंप दिया जाएगा.

केके वर्मा, एसएचओ किला

inextlive from Bareilly News Desk