-वर्ष 2016 में गुमशुदा हुए 8 बच्चे और मई 2017 तक गुमशुदा हुए 17 बच्चे

-शासन के आदेश के बाद भी 12 दिन देरी से शुरू हुआ अभियान आपरेशन इस्माइल

BAREILLY:

गुमशुदा बच्चों पर एंटी ह्यूमन ट्रैफिकिंग यूनिट 'एएचटीयू' की लापरवाही भारी साबित हो रही है. टीम में शामिल अफसर ऑफिस में एसी की हवा ले रहे हैं. यही वजह है कि गुमशुदा बच्चों की तलाश नहीं हो पा रही है. हद तो तब हो गई, जब गुमशुदा बच्चों की तलाश के लिए शासन से आए आदेश को भी अधिकारी दबा गये. यही वजह रही कि ऑपरेशन स्माइल 12 दिन देरी से शुरू हो सका.

मई 2017 तक 14 बच्चे गुमशुदा

डिस्ट्रिक्ट के सभी थानों से वर्ष 2016 में करीब 8 बच्चे गुमशुदा हुए थे. सभी गुमशुदा हुए बच्चों के परिजनों ने संबंधित थाने में मुकदमा भी दर्ज कराया था. जिसमें से थाना पुलिस और एएचटीयू ने मिलकर केवल एक ही गुमशुदा बच्चे को तलाश पाई. वहीं वर्ष 2017 के आंकड़ों पर गौर करें तो स्थित और भी अधिक दयनीय है. वर्ष 2017 में मई तक करीब 14 बच्चे गुमशुदा हुए हैं, जिसमें से पुलिस अभी तक केवल दो ही बच्चों को तलाश कर पाई है. अफसरों ने जब डिस्ट्रिक्ट के सभी थानें से गुमशुदा हुए बच्चों आंकड़े चेक किए तो उन्होंने गहरी नाराजगी जताई. अफसरों ने आपरेशन मुस्कान में तेजी लाने के साथ गंभीरता दिखाने की बात कही है.

नाराजगी के बाद हुआ एक्शन

शासन से डीएम के पास एक आदेश आया था जिसमें 1 से 31 जुलाई तक ऑपरेशन इस्माइल चलाने का आदेश दिया गया था. डीएम ने इसके लिए श्रम विभाग, एएचटीयू और चाइल्ड लाइन की एक टीम बनाई थी, लेकिन टीम ने आदेश पर सुस्ती दिखाते हुए 12 दिन तक दबाए रखा. मामला जब अफसरों के संज्ञान में पहुंचा तो ऑपरेशन इस्माइल की रिपोर्ट जब तलब की गई, तो टीम 12 दिन में एक भी गुमशुदा बच्चे को नहीं पकड़ पाई. अफसरों की नाराजगी के बाद एएचटीयू टीम प्रभारी ने सभी थानों से गुमशुदा की रिपोर्ट तलब की है.

एसएसपी ने लगाई फटकार

ऑपरेशन स्माइल के बारे में फ्राइडे सुबह जब एसएसपी ने एएचटीयू प्रभारी सुरेन्द्र सिंह से जानकारी ली तो पता चला कि अभी तक एक भी गुमशुदा बच्चा नहीं पकड़ा गया है, जिस पर उन्होंने नाराजगी जताई और ऑपरेशन स्माइल में तेजी लाने के निर्देश दिए. इसके साथ ही उन्होंने ऑपरेशन स्माइल में एसपी देहात डॉ ख्याति गर्ग से भी देहात थाना क्षेत्रों से भी अपडेट मांगा है. उन्होंने देहात थाना क्षेत्रों से भी जानकारी मांगी है कि अभी तक कितने गुमशुदा बच्चों को तलाश किया गया है. इसकी दो दिन में अपडेट दिन के अंदर भेजने को कहा है.