‘मॉम’ मूवी रिव्‍यू: सौतेली मां की ममता और बहादुरी की रोमांचक कहानी

By: Inextlive | Publish Date: Fri 07-Jul-2017 07:31:01   |  Modified Date: Sat 08-Jul-2017 03:10:35
A- A+
‘मॉम’ मूवी रिव्‍यू: सौतेली मां की ममता और बहादुरी की रोमांचक कहानी
श्रीदेवी, नवाजुद्दीन सिद्दीकी और अक्षय खन्‍ना स्‍टारर फिल्‍म ‘मॉम’ आज सिनेमाघरों में रिलीज हो गई। श्रीदेवी और अक्षय खन्‍ना के अनोखे किरदारों के साथ नवाजुद्दीन का विचित्र रोल फिल्‍म को बहुत खास बनाता है। आइए जानें ‘मॉम’ का हॉल।

माँ का किरदार भारत की फिल्मों में हमेशा से ही एक अहम् किरदार रहा है, और हमेशा रहेगा क्योंकि माँ के किरदार से हम रिलेट करते हैं, यहाँ तक की पूजा भी करते हैं। श्रीदेवी फिल्म मॉम के साथ एक बार फिर से बॉलीवुड पर दस्तक दे रही हैं, और साथ ही इस साल वो फ़िल्मी दुनिया में अपनी गोल्डन जुबली भी मना रही हैं। इंग्लिश विन्ग्लिश में उनके किरदार को खासा पसंद किया गया और इस फिल्म में उनके किरदार के लिए उनको याद किया जाएगा।

रेटिंग : ****

कहानी
अपनी सौतेली बेटी के मान सम्मान को ठेस पहुंचाने वाले मुजरिम को माँ कैसे अपने मुकाम तक पहुंचाती है यही है फिल्म की कहानी।

 

कथा पटकथा और निर्देशन
फिल्म की कहानी एक रेगुलर रेवेंज सागा है, कहने को देखा जाए तो कुछ भी नया नहीं है, पर फिल्म का स्क्रीनप्ले काफी शानदार है जिसकी वजह से ये फिल्म इस साल की सबसे उम्दा फिल्मों में से एक बना देती है। फिल्म की कहानी जिस तरह से आगे बढती है वो इस साधारण कहानी को एन्ग्रोसिंग बना देती हैं। परत दर परत फिल्म सोशल इश्यूज को काफी एफ्फेक्टिव तरीके से डील करती है, साथ ही माँ के हज़ार रूप भी आपको दिखाती है। जिसे समाज अबला समझता है, वो ज़रुरत पड़ने पर क्या नहीं कर सकती ये इस फिल्म की कहानी आपको दिल को छू लेने वाली कहानी के माध्यम से बताती है।

 

अदाकारी
श्रीदेवी इस फिल्म की लीड किरदार हैं, और फिल्म की जान हैं। उनका ये परफॉरमेंस काफी डेप्थ लिए हुए है। एक बेहतरीन लिखा हुआ किरदार जिस तरह से निभाया गया है वो काबिलेतारीफ है। नवाज़उद्दीन सिद्दीकी फिर से साबित करते हैं की वो बॉलीवुड के सबसे बढ़िया अबिनेताओं में से एक हैं। अक्षय खन्ना का काम कुछ ज्यादा नहीं है पर जितना भी है उन्होंने बखूबी निभाया है। फिल्म की ओवरआल कास्टिंग सटीक है और प्रभावशाली तरीके से निभाया है।

 

संगीत
संगीत बस ठीक ठाक है, फिल्म  का पार्श्वसंगीत बेहद अच्छा है।

 

 

बेबो का फैशन : जब एक सेफ्टी पिन की वजह से वायरल हो गई थी करीना की तस्‍वीर

कुल मिलाकर ये फिल्म इस साल की सबसे उम्दा फिल्मों में से एक है। और ये फिल्म अपनी बेहद साधारण कहानी के बावजूद आपको इम्प्रेस करती है और माँ के प्रति आपके इमोशंस को और आपके लिए माँ के कर्तव्यों और त्यागों को काफी अच्छी तरीके से दिखाती है। इस हफ्ते मिस मत कीजिये ‘मॉम’

धर्मेंद्र की इन दो बेटियों ने छोड़ दिया भारत, जानें कहां जी रहीं गुमनामी की जिंदगी


Review by : Yohaann Bhaargava
www.scriptors.in

Bollywood News inextlive from Bollywood News Desk