Movie review: कहानी 2 की कहानी में हैं संदेश, ताकि सलामत रहे बचपन

By: Molly Seth | Publish Date: Fri 02-Dec-2016 01:38:00   |  Modified Date: Fri 02-Dec-2016 02:34:41
A- A+
Movie review: कहानी 2 की कहानी में हैं संदेश, ताकि सलामत रहे बचपन
ये तो जाहिर है कि हर सीक्वल की तुलना उसके पहले पार्ट से की जाती है। इसलिए पहले ही बता दें कि कहानी 2 का फिल्‍म के पहले पार्ट से कोई लेना देना नहीं है। दोनों बिलकुल अलग फिल्में हैं। कहानी 2 बच्चों से जुड़े घिनौने क्राइम्स को लेकर बनी एक थ्रिलर मूवी है। आइये अब जानते हैं कैसी है कहानी 2।

Movie: कहानी 2
Director:
सुजोय घोष
Cast:
विद्या बालन, अर्जुन रामपाल, जुगल हंसराज


movie review, bollywood movie review, kahaani 2, movie review kahaani 2, vidya balan, sujoy ghosh

विद्या के संघर्ष की कहानी
विद्या सिन्हा (विद्या बालन) की बेटी अपाहिज हैं, विद्या उसका इलाज करवाने की जद्दोजेहेद में हैं, इसी बीच मिनी का अपहरण हो जाता है और इसी बीच एक हादसे में विद्या कोमा में चली जाती है। केस की तफ्तीश कर रहे इन्द्रजीत जिसको तफ्तीश के दौरान इस केस के बारे में काफी सारे जवाब ढूँढने हैं। क्या है विद्या उर्फ़ दुर्गा रानी सिंह (विद्या बालन) की असल कहानी जानने के लिए देख सकते हैं कहानी 2।

बेहतरीन कहानी, कसा निर्देशन
फिल्म की कहानी जिस इशू के इर्द गिर्द बुनी गई है, वो एक ऐसा मुद्दा है जिसपर लोग अक्सर चुप होकर बैठ जाते हैं। इस मुद्दे पर फिल्म बनाना बहादुरी का काम है। फिल्म का फर्स्ट हाफ बेहद ग्रिपिंग है। फिल्म इस दौरान आपको सीट से बाँध कर रखती है। हालाकि फिल्म का सेकंड हाफ उस लिहाज़ से कहानी को ठीक से जस्टिफाई नहीं कर पाता, ये राइटिंग फाल्ट है। यहाँ आके फिल्म अपनी स्पीड और मुद्दे की पटरी से उतरने लगती है। फिल्म अच्छी है पर कहानी की पहली किश्त के मुकाबले वीक है। फिल्म की सिनेमेटोग्राफी और बाकी टेक्निकल डिपार्टमेंट काफी अच्छे हैं। बैकग्राउंड स्कोर काबिले तारीफ है। फिल्म का समा बाँधने में और कहानी के फ्लो को सपोर्ट करता है।

 


अपने किरदार निभाये हैं सभी कलाकारों ने
कहानी के फर्स्‍ट पार्ट की तरह इस बार भी फिल्‍म की जान हैं विद्या बालन। उनकी अदाकारी बेहद सहज है और अपने किरदार को बखूबी निभाती हैं। फिल्म में अर्जुन ने भी बढ़िया काम किया है। ऑन द होल कास्टिंग डिपार्टमेंट ने इस फिल्म की पिच परफेक्ट कास्टिंग है।

क्‍यों देखें फिल्‍म
ये कहानी की तरह स्ट्राइकिंग नहीं है पर फिर भी तीन कारणों से देखी जानी चाहिए, विद्या की अदाकारी, अपनी जटिल और रेलिवेंट थीम और इसके फर्स्ट हाफ का थ्रिल। अंत अगर बेहतर होता तो ये फिल्म एक परफेक्ट फिल्म होती। कुल मिलाकर अपनेर छोटे छोटे स्क्रिप्टिंग फ्लाज़ के बावजूद कहानी 2 एक देखने लायक फिल्म है।
 
Reviewed by: Yohaann Bhaargava

 

www.scriptors.in

Bollywood News inextlive from Bollywood News Desk