- शराब की दुकानें सिर्फ 6 घंटे खोलने के ऐलान से राजस्व पर फर्क पड़ने की संभावना

- मई से लागू होगा नियम, आबकारी मंत्री बोले शराब के अवैध करोबार पर लगाएंगे लगाम

DEHRADUN: अवैध शराब की तस्करी पर रोक लगाकर आबकारी से मिलने वाला राजस्व बढ़ाया जाएगा. सीएम त्रिवेंद्र सिंह रावत के मई से शराब की दुकानों को सिर्फ म् घंटे खोलने के निर्णय का आबकारी मंत्री प्रकाश पंत ने समर्थन करते हुए कहा कि शराब की दुकानों को कम समय के लिए खोलने से राजस्व पर ज्यादा असर नहीं पड़ेगा. कहा कि अगर कुछ फर्क पड़ेगा भी तो अवैध शराब की तस्करी को रोककर, नशीले पदार्थो का कारोबार रोककर सरकार राजस्व के नुकसान की भरपाई कर लेगी.

टारगेट पूरा करना चुनौती से कम नहीं

नई आबकारी नीति से प्रदेश सरकार को ख्फ्भ्0 करोड़ के राजस्व मिलने का अनुमान था. पिछले वित्तीय साल में सरकार ने आबकारी से क्800 करोड़ से अधिक का राजस्व प्राप्त किया था. प्रदेश में शराब की भ्00 से ज्यादा दुकानें हैं. प्रदेश सरकार को इन दुकानों से करीब ख्भ् फीसदी राजस्व का लाभ मिलता है. ऐसे में अब शराब की दुकानों को सिर्फ म् घंटे तक खुला रखने के नए ऐलान के बाद राजस्व को भारी नुकसान होने का अंदेशा है. ऐसे में सरकार किस तरह से राजस्व के नुकसान की भरपाई कर पाएगी ये बड़ा सवाल है. भले ही आबकारी मंत्री ने इस बात से इनकार किया कि प्रदेश में आबकारी राजस्व का प्रमुख सोर्स है. आबकारी मंत्री ने साफ किया कि अवैध शराब की तस्करी रोकना सरकार की प्राथमिकता होगी. साथ ही प्रदेश में जो नशे का कारोबार चल रहा है, उसे रोककर राजस्व को होने वाले नुकसान की भरपाई कर ली जाएगी.