CM योगी के शहर में अब VIP फ्लीट के कारण नहीं फंसेगी एंबुलेंस और बच्‍चे, और यह होगा ऐसे!

By: Inextlive | Publish Date: Thu 14-Sep-2017 04:46:47   |  Modified Date: Thu 14-Sep-2017 04:48:32
A- A+
CM योगी के शहर में अब VIP फ्लीट के कारण नहीं फंसेगी एंबुलेंस और बच्‍चे, और यह होगा ऐसे!
- वीआईपी फ्लीट के लिए काफी पहले रोक दी जाती है ट्रैफिक, पब्लिक को होती है परेशानी - अब अधिकारी करेंगे रूट की निगरानी, एंबुलेंस न फंसे, इस पर भी रहेगा ध्यान

i special

GORAKHPUR: वीआईपी मूवमेंट से सीएम सिटी में दिक्कतें बढ़ गई हैं. खासकर ट्रैफिक प्रॉब्लम इतनी अधिक हो जाती है कि लोगों को कहना पड़ता है कि काश, सीएम साहब नहीं आते. वीआईपी फ्लीट को पास कराने के लिए काफी पहले ट्रैफिक रोक दी जाती है. इससे भीषण जाम लग जाता है. इसमें स्कूली बसों से लेकर एंबुलेंस तक फंस जाती हैं. इस प्रॉब्लम को दूर करने के लिए जिला प्रशासन ने पहल की है. वीआईपी मूवमेंट को लेकर अलग प्लान बनाया जा रहा है.

 

स्कूल टाइमिंग पर होगा फोकस

वीआईपी मूवमेंट से ट्रैफिक रोके जाने पर सबसे अधिक दिक्कत स्कूल के बच्चों को होती है. उन्हें प्रॉब्लम न हो, इसके लिए जिम्मेदारों ने सभी स्कूल की टाइमिंग कलेक्ट करनी शुरू की है. कौन सा स्कूल कितने बजे शुरू होता है और उसकी छुट्टी कितने बजे होती है, इसका डाटा कलेक्ट किया जा रहा है. इसके बाद जब भी कोई वीआईपी प्रोग्राम लगेगा, तो उसमें इस बात का खास ध्यान रखा जाएगा कि वीआईपी मूवमेंट की टाइमिंग, स्कूल टाइमिंग से क्लैश तो नहीं कर रही है. अगर ऐसा होता है, तो जिला प्रशासन की ओर से उन सभी स्कूलों से वीआईपी प्रोग्राम की टाइमिंग शेयर कर दी जाएगी और स्कूल-कॉलेजेज को उसी के अकॉर्डिग अपनी टाइमिंग मैनेज करनी होगी.

 

सेक्टर ऑफिसर्स रखेंगे निगाह

वीआईपी मूवमेंट के दौरान स्टूडेंट्स के साथ ही पेशेंट्स का भी खास ख्याल रखा जाएगा. इसके लिए डीएम राजीव रौतेला ने जिम्मेदारों को निर्देशित किया है कि वीआईपी प्रोग्राम के दौरान रूट के डिफरेंट सेक्टर्स पर तैनात मजिस्ट्रेट यह जरूर देखें कि कहीं कोई एंबुलेंस तो नहीं फंसी है. उसे सावधानी के साथ निकलवाएं. इसमें वहां सुरक्षा में लगे जवानों की भी मदद ली जाए, जिससे मरीज को टाइमली ट्रीटमेंट मिल सके.

 

जाने के बाद भी चैन नहीं

वीआईपी के जाने के बाद भी घंटों जाम लगा रहता है. वीआईपीज के गुजरने से करीब आधा घंटे पहले ही ट्रैफिक रोक दी जाती है. जिससे वीआईपी के वहां से गुजरने तक भीषण जाम के हालात हो जाते हैं. जैसे ही काफिला गुजरता है, लोग जल्दी पहुंचने की चाह में लोग आगे बढ़ जाते हैं, इससे वन वे-टू वे सिस्टम फेल हो जाता है. एक ही तरफ के लोग पूरी रोड पर हो जाते हैं जबकि दूसरे लेन वालों को जगह नहीं मिलती. इस तरह पुलिस को जाम हटवाने में घंटों लग जाते हैं.

 

 

वीआईपी मूवमेंट के दौरान लोगों को जाम की समस्या से निजात मिले और स्टूडेंट्स व एंबुलेंस में फंसे मरीज टाइमली डेस्टिनेशन पर पहुंच सकें, इसके लिए नया एक्शन प्लान तैयार किया गया है. इससे लोगों को काफी राहत मिलेगी.

- राजीव रौतेला, डीएम