किस WEB ब्राउजर में है पासवर्ड चोरी का खतरा

ऑनलाइन सिक्योरिटी रिसर्चर ग्रुप ने हाल ही में दुनिया के सबसे पॉपुलर वेब ब्राउजर क्रोम समेत, फायरफॉक्‍स, सफारी, ओपेरा और माइक्रोसॉफ्ट के ऐज ब्राउजर के पासवर्ड मैनेजर में एक ऐसी बग खोज निकाली है, जो करीब 10 साल पुरानी है, लेकिन उसे शायद ही कोई पकड़ पाया है। तभी तो उसे अब तक ठीक नहीं किया जा सका। जब हम आप ब्राउजिंग करते वक्‍त किसी वेबसाइट का पासवर्ड रिमेंबर या सेव कराते हैं, तो वो डेटा ब्राउजर के पासवर्ड मैनेजर में साइट के URL, लॉगइन आईडी और पासवर्ड के साथ सेव हो जाता है। भले ही इस डेटा को एक्‍सेस करने के लिए ब्राउजर आपसे जीमेल या ब्राउजर पर लागइन करवाता है, लेकिन इसके बावजूद पासवर्ड का ये डेटा बिल्‍कुल भी सुरक्षित नहीं है और ये आईडी और पासवर्ड आसानी से चुराए जा रहे हैं और इंटरनेट यूजर्स इस खतरे से पूरी तरह बेखबर हैं।

कौन चुरा रहा है आपके पासवर्ड?

अमेरिका के न्‍यूजर्सी में मौजूद प्रिंस्टन सेंटर फॉर इनफॉर्मेशन टेक्नॉलॉजी पॉलिसी में हुई एक रिसर्च में यह हैरान करने वाली जानकारी सामने आई कि AdThink और OnAudiance नाम की दो Ad कंपनियां पिछले काफी समय से वेब ब्राउजर में सेव्‍ड लाखों यूजर्स के लॉगइन आईडी और पासवर्ड डेटा चुरा चुकी हैं। उनकी यह हरकत लगातार जारी है। सभी पॉपुलर ब्राउजर्स के पासवर्ड मैनेजर में मौजूद पुरानी खामी को ही अपना हथियार बनाकर ये कंपनियां पासवर्ड डेटा उड़ा रही हैं। रिसर्च में पता चला कि ये कंपनियां कुछ थर्डपार्टी डेटा ट्रैकिंग स्क्रिप्ट का यूजर करके ब्राउजर पर खुलने वाले पेजेस में इनविजिबल लॉगइन फॉर्म इंजेक्‍ट कर देती हैं और उन वेबसाइटों पर यूजर द्वारा डाले गए आईडी पासवर्ड को चुरा लेती हैं। ब्राउजर्स की खामी को दूर किए बिना ब्राउजर पर सेव किए गए पासवर्ड की चोरी रोकना फिलहाल मुमकिन नहीं है।

यह चार्जर चलेगा असली Wi-Fi पर! यानि पूरे घर के फोन दूर बैठकर ही हो जाएंगे चार्ज

 gmail,फेसबुक के पासवर्ड वेब ब्राउजर पर सेव करने की आदत है तो बदल डालिए,वर्ना ये कंपनियां सब कुछ चुरा लेंगी!

ताली बजाते ही आपका मिसिंग फोन खुद बताएगा कि मैं यहां हूं! ये होगा कैसे जानिए बस 2 मिनट में

अपने फेसबुक या बैकिंग पासवर्ड को चोरी होने से ऐसे बचाइए

इस रिसर्च के मुताबिक जब तक क्रोम से लेकर फायरफॉक्‍स, सफारी, ओपेरा और ऐज ब्राउजर्स को बनाने वाली डेवलपर कंपनियां इस खामी को दूर नहीं करतीं, तब तक यूजर्स को अपनी सुरक्षा अपने हाथ वाला फॉर्मूला ही अपनाना होगा। मतलब यह है कि यूजर अगर किसी भी वेबसाइट को लॉगइन करते वक्‍त ब्राउजर पर पासवर्ड सेव नहीं करेगा, तो उस पासवर्ड के चोरी होने की पॉसिबिल्टिी न के बराबर होगी। दूसरी ओर अगर यूजर ऑफिस या इंटरनेट कैफे में अपना कंप्‍यूटर खुला छोड़ जाता है तो ब्राउजर में सेव किए गए पासवर्ड से कोई भी दूसरा यूजर आपके ऑनलाइन अकाउंट से कुछ भी चुरा सकता है। तो सीधा से लॉजिक ये है कि ब्राउजर पर अपने पासवर्ड सेव मत करिए। ऐसा करके आपके ऑनलाइन अकाउंट्स हमेशा सुरक्षित बने रहेंगे।

दुनिया के करोंड़ो कंप्‍यूटर और Smartphone में लगी Intel और ARM चिप में मिली बहुत बड़ी खामी! अपनी डिवाइस को सेफ रखने के लिए तुरंत करें ये काम

Technology News inextlive from Technology News Desk