You are here : Home Photogallery

जानें कौन रहता है भारत के इन आलीशान राजमहलों में

भारत के शाही घराने और उनके शाही अंदाज हमेशा से दुनिया के बीच चर्चा में रहे हैं। दुनिया का कोई भी कोना हो, लेकिन वहां का रहने वाला भारत के शाही रहन-सहन के बारे में जानना ही चाहता है। इसको ध्‍यान में रखते हुए इन शाही परिवारों के महलों को आज भी उतना ही खूबसूरत रखा गया है। इन महलों में आज भी शाही परिवार अपने राजशाही ठाठ-बाठ के साथ रहता है। वहीं कुछ महल इनमें से ऐसे भी रहे, जो अब इन शाही परिवारों का हिस्‍सा नहीं रहे। ऐसे में इन महलों को अब भारत सरकार की ओर से म्‍यूजियम में तब्‍दील कर दिया गया है। आइए, तस्‍वीरों में देखें ऐसे ही भारत के कुछ शाही महल और उनकी यादों को...।

Tue 13-Sep-2016 03:57:25
1
ये है लक्ष्‍मी विलास पैलेस : 1890 में बनकर तैयार हुआ ये पैलेस बड़ौदा, गुजरात में है। इस महल की खासियत ये है कि इसको सिर्फ भारत में ही नहीं बल्‍कि दुनिया में सबसे खूबसूरत महल माना जाता है। इसको अंग्रेज आर्किटेक्‍ट चार्ल्‍स मैट ने डिजायन किया था। इसको बड़ौदा के मशहूर गायगवाड़ परिवार ने बनवाया था। अभी भी इस महल में बड़ौदा रॉयल फैमिली रहती है।
2
राजस्‍थान का उदयपुर सिटी पैलेस : सन् 1600 में बनकर तैयार हुआ राजस्‍थान के उदयपुर में स्‍थित से सिटी पैलेस अपनी खबसूरती के लिए बेहद मशहूर है। आजादी के बाद इस महल पर राज्‍य सरकार का कब्‍जा हो गया। वो बात और है कि 1969 में इसे उदयपुर के राजपरिवार को लौटा दिया गया। इसके बाद भी इस महल के एक हिस्‍से में म्‍यूजियम बना हुआ है।
3
ये है रॉयल पैलेस ऑफ मैसूर : 1912 में बनकर तैयार हुआ ये रॉयल पैलेस ऑफ मैसूर, कर्नाटक में स्‍थित है। हाल ही में हुए एक सर्वे में इस बात का खुलासा किया गया है कि भारत में ताज महल के बाद इसी पैलेस का नंबर आता है, जिसको देखने के लिए लोग दूर-दराज से यहां आते हैं। इस पैलेस पर अधिकार की बात करें तो फिलहाल इसको लेकर मैसूर के शाही वाडियार खानदान और सरकार के बीच सुप्रीम कोर्ट में मुकदमा चल रहा है। वर्तमान में ये पैलेस कर्नाटक सरकार के कब्‍जे में है। इस पैलेस की मेकिंग को लेकर बताया गया है कि इसे अंग्रेजी आर्किटेक्‍ट हेनरी इर्विन ने डिजायन किया है।
4
ये है नीरमहल : 1930 में बना ये नीरमहल त्रिपुरा के मेलागढ़ में स्‍थित है। उदयपुर के मशहूर लेक पैलेस की तरह यह पैलेस भी एक बड़ी झील पर बना हुआ है। फिलहाल यह पैलेस भी त्रिपुरा आने वाले टूरिस्‍ट के बीच काफी मशहूर है। इस प्रॉपर्टी को लेकर त्रिपुरा की रॉयल फैमिली और सरकार के बीच मामला चल रहा है। हाल ही में स्‍थानीय अदालत ने इसको राजपरिवार को वापस लौटाने का आदेश दिया था। राज्‍य सरकार इस फैसले के खिलाफ ऊपरी अदालत में आवाज उठाने की योजना बना रही है।
5
उमेद भवन पैलेस : 1943 में जयपुर के राजस्‍थान में बना ये उमेद भवन पैलेस के एक हिस्‍से को होटल का रूप दे दिया गया है। हालांकि अभी भी इसके एक हिस्‍से में राजपरिवार रहता है। वहीं इसका एक हिस्‍सा म्‍यूजियम के रूप में तब्‍दील कर दिया गया है।
6
देखिए, रंजीत विलास पैलेस : 20वीं शताब्‍दी में बनकर तैयार हुआ रंजीत विलास पैलेस गुजरात के राजकोट में स्‍थित है। ये गुजरात के सबसे खूबसूरत महलों में से एक है। गुजरात के राजकोट जिले के वांकानेर में मौजूद इस महल को महाराज अमर सिंह ने बनवाया था। वहीं जामनगर के पूर्व शासक जाम रंजीत सिंह के नाम पर इसको नाम दिया गया। इसको यूरोपिय शैली में तैयार किया गया है।
7
ये है उज्‍जयंत पैलेस : 1901 में बनकर तैयार हुआ त्रिपुरा के अगरतला में स्‍थित ये पैलेस त्रिपुरा के पूर्व राजपरिवार से संबंधित है। ब्रिटिश काल में इस महल को महाराजा राधा किशोर मानिक्‍स ने बनवाया था। वर्तमान में इस महल में राज्‍य विधानसभा का काम होता है।
8
आगा खां पैलेस : 1892 में बनकर तैयार हुआ आगा खां पैलेस महाराष्‍ट्र के बंदू (पुणे) में स्‍थित है। इस महल को आगा खां 3 ने बनवाया था।
9
देखिए, कूचविहार पैलेस : 1887 में पश्‍चिम बंगाल के कूचविहार में बनकर तैयार हुआ ये पैलेस शासक नीपेंद्र नारायण के दौर में बना था। इसको विक्‍टर जुबली पैलेस के नाम से भी जाना जाता है।