You are here : Home Photogallery

नागदेवता कोचढ़ाया दूध, सर्पदोष से मुक्ति की कामना

नागपंचमी व श्रावणी पर्व श्रद्धा से मनाया गया. इस अवसर पर संगम व गंगा घाटों में शुक्रवार की सुबह से स्नानार्थियों की भारी भीड़ जुटी. स्नान, ध्यान के बाद यम-नियम से भगवान भोलेनाथ व नागदेव का पूजन किया गया. भक्तों ने सर्प का पूजन कर उनके प्रकोप से मुक्ति पाने की कामना की. नाग के भय से मुक्ति के लिए लोगों ने दरवाजे की दोनो ओर गोबर व जल में घी मिलाकर सर्प की आकृति बनाई और उसमें गेंहू, दही, लावा, चना, माला-फूल अर्पित कर पूजन कार्य सम्पन्न किया. नागपंचपी पर तक्षकतीर्थ मंदिर के बाहर सुबह से ही भक्तों की लंबी लाइने लगी रही. पीठाधीश्वर स्वामी रविशंकर की देखरेख में कालसर्प दोष, सर्प मुक्ति यज्ञ व रुद्राभिषेक का आयोजन किया गया. दारागंज स्थित प्राचीन नागवासुकी मंदिर में महिलाओं, बच्चों व पुरुषों ने रुद्राभिषेक व कालसर्प दोष की शांति कराई. इसके अलावा मनकामेश्वर, पंचमुखी महादेव, गंगोली शिवालय, दशाश्वमेध, शिव कचहरी समेत प्रत्येक शिवालयों के बाहर सपेरों का जमघट लगा रहा. दारागंज में कुश्ती प्रतियोगिता हुई. जिसमें कई नामी पहलवानों ने प्रतिभाग किया.

Sat 29-Jul-2017 01:21:46
1
नाग पंचमी पर्व पर शिव मंदिरों में चढ़ चढ़ाने के लिए कतार में खड़ी महिलाएं.
2
शिव मंदिरों में जला भिषेक के लिए उमड़ा भक्तों का रेला.
3
शिव मंदिर के मुख्य द्वार पर जल भिषेक के लिए उमड़ा भक्तों का रेला.
4
नाग देवता को दूध पिलाने के बाद पैसा चढ़ाती महिलाएं.
5
नाग देवता को दूध पिलाने के बाद दक्षिणा देते दंपति।
6
नाग देवता को दूध पिलाता व्यक्ति।
7
शिव मंदिर में जलाभिषेक के लिए जाती महिला.
8
नाग पंचमी पर्व पर भगवान शिव को दूध चढ़ाने के लिए कतार में खड़ी महिलाएं.
9
शिव धाम में कतार से हट कर दर्शन के लिए जाने वालों को मना करता व्यक्ति व महिला सिपाही.
10
भगवान शिव को जल चढ़ाने के लिए जाती महिला.
11
नाग पंचमी पर्व पर शहर के दारागंज में आयोजित दंग प्रतियोगिता में एक दूसरे पर दांव आजमाते पहलवान.