You are here : Home Photogallery

प्रवाहमान दिखी नृत्य संगीत की सरिता

राम चरणों के दास बजरंगबली के दरबार में कला साधकों का मेला. तरह-तरह की राग-रागिनियों और तालों का हुआ अनूठा संगम. कोई गायन का माहिर तो कोई वादन का सिद्धहस्त. मंच पर चढ़े तो रचा नृत्य व संगीत का कुछ ऐसा मायाजाल कि हर आंख रही खोयी और हर मन रहा तल्लीन. मौका था छह दिवसीय संकटमोचन संगीत समारोह का.

Fri 29-Apr-2016 12:31:34
1
शास्त्रीय गायक पं. जसराज ने केसरी नंदन का वंदन किया. राग ललित में आलाप से उन्होंने अपने कार्यक्रम की शुरुआत की.
2
मंदिर के एक तरफ बीएचयू और दूसरे यूनिवर्सिटीज के स्टूडेंट्स द्वारा बनाये गये चित्रों की प्रदर्शनी भी खास रही. प्रदर्शनी में बजरंगबली के विविध रूपों का प्रदर्शन किया गया था.
3
पद्मविभूषण पं. हरिप्रसाद चौरसिया ने राग विहाग में बांसुरी पर तान छेड़ी. आलाप लिया और मध्य लय नौ मात्रा में रचना प्रस्तुत कर विभोर कर दिया.
4
संकटमोचन संगीत समारोह में नृत्य व संगीत का कुछ ऐसा मायाजाल कि हर आंख रही खोयी और हर मन रहा तल्लीन.