- प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के 22 और 23 सितम्बर को प्रस्तावित दौरे को लेकर इंटेलीजेंस ने भेजी रिपोर्ट

- कई मुद्दों को लेकर विपक्षी कर सकते हैं पीएम का विरोध

1ड्डह्मड्डठ्ठड्डह्यद्ब@द्बठ्ठद्ग3ह्ल.ष्श्र.द्बठ्ठ

ङ्कन्क्त्रन्हृन्स्ढ्ढ

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के 22 और 23 सितम्बर को प्रस्तावित बनारस दौरे को लेकर एक ओर जहां प्रशासनिक तैयारियां जोर-शोर से चल रही हैं. वहीं खुफिया विभाग ने पीएमओ को भेजी अपनी रिपोर्ट में पीएम के 22 सितम्बर को बनारस में नाइट स्टे नहीें करने की सलाह दी है. क्योंकि महंगाई समेत कई मुद्दों को लेकर विपक्षी पार्टियां और कई संगठन पीएम के विरोध में हैं. ऐसे में पीएम की सुरक्षा में चूक हो सकती है.

पुलिस प्रशासन का रवैया ठीक नहीं

केन्द्रीय खुफिया एजेंसी को मंगलवार को पीएम मोदी का प्रारम्भिक प्रोटोकॉल मिला है. जिसके बाद खुफिया एजेंसी ने एएसएल यानि एडवांस सिक्योरिटी लाइजिनिंग करने की तैयारी कर ली है. इसी के तहत डीरेका गेस्ट हाउस में पीएम के 22 सितम्बर को नाइट स्टे के बाबत खुफिया विभाग ने पीएमओ को रिपोर्ट भेजकर रात्रि विश्राम न करने के बाबत कहा है. इंटेलीजेंस ने अपनी रिपोर्ट में ये जिक्र किया है कि पुलिस प्रशासन एक्टिव नहीं होता है. जिसके कारण सुरक्षा में चूक हो सकती है.

कई बार हो चुकी है लापरवाही

पीएम आगमन से पहले इस बार खुफिया ज्यादा अलर्ट इसलिए है क्योंकि पिछले कई दौरों में सुरक्षा में चूक हो चुकी है. एक बार सम्पूर्णानंद यूनिवर्सिटी के सामने एक अंजान कार पीएम के काफिले के बीच में घुस गई थी. शिवपुर में भी एक टैक्सी काफिले में शामिल हो गई थी. डीरेका में पीएम के आने से पहले एक लेवर की करंट से मौत मंच के पास हुई थी. इसके अलावा सपा और आइसा कार्यकर्ताओं की गिरफ्तारी भी हो चुकी है. इन चीजों को देखते हुए खुफिया इस बार हर कदम फूंक-फूंक कर रख रहा है.