- काम में लापरवाही अब पुलिस कर्मियों को पड़ेगी भारी

- एसएसपी ने जारी किया आदेश, बीट पर जाना होगा जरूरी

GORAKHPUR:

अपनी बीट पर न जाने वाले पुलिस कर्मियों के लिए अब मुश्किलें खड़ी हो गई हैं. क्योंकि अब पुलिसकर्मियों को सिर्फ बीट पर ही जाना जरूरी नहीं होगा, बल्कि उन्हें अपने इलाके के सभी विवादों और वहां के लोगों के बारे में भी जानकारी रखनी होगी. एसएसपी शलभ माथुर ने जिले के सभी थानाक्षेत्रों के बीट दरोगाओं के लिए सख्त निर्देश जारी किया है. एसएसपी ने साफ तौर पर कहा है कि बगैर बीट पर गए काम करने वाले पुलिस कर्मी यह याद रखें कि अगर कोई बड़ी घटना होती है तो वह इसके लिए खुद जिम्मेदार होंगे.

रहेगी हर बात की जानकारी

दरअसल एसएसपी शलभ माथुर का मानना है कि दरोगाओं को बीट पर जाने से इलाके की तमाम जानकारियां मिलती हैं. वहां चल रहे छोटे-मोटे विवाद, क्षेत्र के अपराधियों के बारे में जानकारियां रहती हैं, वहीं, इलाके के व्यापारी, सामाजिक लोगों से भी पुलिस के संबंध बनते हैं. ऐसे में अगर हर छोटे-मोटे मामलों को पुलिस गंभीरता से लेते हुए उसपर तत्काल कार्रवाई करे तो तमाम बड़ी घटनाओं को होने से बचाया जा सकता है. एसएसपी के मुताबिक हाल के दिनों में झंगहा इलाके में हुआ डबल मर्डर इसका सबसे ताजा उदहारण है. इससे सबक लेते हुए एसएसपी ने थानेदारों से पुरानी रंजिश के मुकदमों की भी डिटेल मांगी है.

ताकि स्थानीय लोगों से बने बेहतर संबंध

एसएसपी शलभ माथुर ने बताया कि थानेदारों की सूची आने के बाद आगे की कार्रवाई की जाएगी. वहीं, फरार वारंटी के गिरफ्तारी का अभियान चल रहा है और पुलिस ने कई बदमाशों को गिरफ्तार कर लिया है. अब पुराने मामलों को सुलझाया जाएगा और पुलिस की लापरवाही सामने आई तो कार्रवाई भी की जाएगी. बीट सिपाही, दरोगा की यह जिम्मेदारी होगी कि वह लगातार बदमाशों की निगरानी करें और जहां भी कार्रवाई की जरूरत हो किया जाए. इसके साथ ही अगर क्षेत्र के लोगों से पुलिस का तालमेल बेहतर है तो किसी भी घटना के बाद आक्रोशित पब्लिक को कंट्रोल करने में वहां के लोकल लोग पुलिस से कहीं ज्यादा कारगर साबित होंगे.

कई बार छोटे-मोटे विवाद पुलिस की लापरवाही से बड़े हो जाते हैं और फिर उसे कंट्रोल कर पाना मुश्किल होता है. इसे देखते हुए बीट दरोगाओं की जिम्मेदारी तय कर दी गई है. ताकि उन्हें अपने क्षेत्र के बारे में पहले से सबकुछ पता हो. इसमें लापरवाही बरतने वाले पुलिसकर्मियों को बख्शा नहीं जाएगा.

शलभ माथुर, एसएसपी