दो लाख रुपए प्रति किलो कीमत वाली 1200 पाउंड मरिजुआना खाने का चूहों पर लगा आरोप

दक्षिणी अमेरिकी देश अर्जेंटीना की एक कोर्ट में उस वक्‍त जज साहब चौंक गए, जब नशीली दवाओं के एक केस की सुनवाई के दौरान 8 पुलिस कर्मियों ने बयान दिया कि पूर्व में पुलिस द्वारा पकड़ी गई नशीली दवा मरिजुआना की एक बड़ी खेप जो पुलिस के गोदाम में रखी थी। उसमें ये 1200 पाउंड यानि करीब साढ़े 500 किलो मरिजुआना चूहे खा गए। हेरोइन और अफीम की तरह पश्चिमी देशों में खासी पॉपुलर ड्रग मरिजुआना की इंटरनेशनल मार्केट में कीमत करीब 3000 डॉलर के आसपास बैठती है। यानि करीब 2 लाख रुपए प्रति किलो कीमत वाली साढ़े 500 किलो मरिजुआना गायब होने से अर्जेंटीना के पुलिस महकमें में हड़कंप मचा हुआ है। जानकारी के मुताबिक दो साल पहले पकड़ी गई करीब 13,200 किलो मरिजुआना की हाल में जब नए पुलिस कमिश्‍नर ने जांच की तो पता चला कि एक टन से ज्‍यादा मरिजुआना गायब हो चुका है। कोर्ट में भले ही पुलिस ने मरिजुआना गायब होने का पूरा दोष चूहों के मत्‍थे मढ़ दिया है, लेकिन कोर्ट को पुलिसकर्मियों की ये बात हजम नहीं हो रही है। इसलिए कोर्ट ने इतनी कीमती ड्रग के गायब होने पर लंबी चौड़ी जांच बैठा दी है।

फॉरेंसिंक एक्‍सपर्ट कर रहे हैं पुलिस के अजीब दावे की जांच

कोर्ट के आदेश पर जांच शुरु करने वाले फॉरेंसिंक एक्‍सपर्ट्स का कहना है कि इतनी भारी मात्रा में मरिजुआना का चुहों द्वारा खा जाना सामान्‍य बात नहीं है, इसलिए तो जांच की जरूरत है कि सच में इतनी भारी मात्रा में मरिजुआना आखिर गायब कहां हो गई। इस जांच से जुड़ जज के प्रवक्‍ता ने कहा, पहली बात तो यह है कि अपने भोजन के लिए मरिजुआना को खा जाने की गलती चूहों ने नहीं होगी। अगर मान भी लें कि चूहों ने मरिजुआना खाया तो उस वेयरहाउस में भारी मात्रा में चूहों की लाशें भी मिलनी चाहिए। फिलहाल अब अगले महीने होने वाली इस केस की सुनवाई में जज यह तय करने की कोशिश करेंगे कि क्‍या पुलिसकर्मियों की लापरवाही के कारण ही इतनी मात्रा में मरिजुआना गायब हुई, या‍ फिर इस मामले में किसी ने भ्रष्‍टाचार किया है।

इनपुट: एजेंसी


यह भी पढ़ें:

फ्रांस में बना दुनिया का पहला 3D प्रिंटेड घर, 18 दिन में ही बन गया यह हाईटेक मकान

चीन ने बना ली है ऐसी रोड, जो दौड़ती कारों को करती है चार्ज, बाकी खूबियां भी हैं कमाल

International News inextlive from World News Desk