- 15 मिनट में पहुंचने वाली यूपी-100 की गाड़ी सूचना के 40 मिनट बाद पहुंची

- सिटी मॉल के पास कार की ठोकर से घायल अधेड़ को पब्लिक ने पहुंचाया अस्पताल

< - क्भ् मिनट में पहुंचने वाली यूपी-क्00 की गाड़ी सूचना के ब्0 मिनट बाद पहुंची

- सिटी मॉल के पास कार की ठोकर से घायल अधेड़ को पब्लिक ने पहुंचाया अस्पताल

GORAKHPUR:

GORAKHPUR: नई तकनीक से लैस नई गाड़ी और स्मार्ट पुलिसकर्मियों को सीएम की महत्वाकांक्षी योजना यूपी-क्00 में लगाया गया है. इसी व्यवस्था के बलबूते शासन ने क्भ् मिनट के अंदर सिटी और ख्0 मिनट के अंदर रुरल एरिया में मौका-ए-वारदात पर पुलिस के पहुंचने का दावा भी कर डाला है, लेकिन जिनकी कंधों पर यह जिम्मेदारी दी गई है, वही इसकी हवा निकालने में लगे हैं. बुधवार को सिटी के बीच सिटी मॉल के सामने एक्सीडेंट से घायल अधेड़ रोड पर पड़े रहे लेकिन सूचना के बाद भी यूपी क्00 मौके पर नहीं पहुंची. पब्लिक ने घायल को खुद अस्पताल न पहुंचाया होता तो कुछ भी हो सकता था. क्भ् मिनट के अंदर पहुंचने वाली पुलिस सीधे अस्पताल पहुंची, वह भी सूचना के ब्भ् मिनट बाद.

युवकों ने पहुंचाई मदद

पीपीगंज एरिया के राखोखुर्द टोला पुतरहिया के रहने वाले भ्भ् वर्षीय समीर एक दशक से शहर में रहकर रिक्शा चलाते हैं. रोज की भांति बुधवार को करीब क्क् बजे रिक्शा लेकर वह शहर में निकले. सिटी मॉल के समीप यूनिवर्सिटी की ओर से आ रही तेजरफ्तार कार ने टक्कर मार दी. हादसे में रिक्शा क्षतिग्रस्त हो गया और समीर गंभीर रूप से घायल हो गए. घटना के समय वहां कुछ लोग पान की दुकान तो कुछ लो चाय की दुकान पर थे. तत्काल पहुंचे और घायल को सहारा दिया. एक युवक ने कार को दौड़ा लिया वहीं एक अन्य ने यूपी क्00 पर सूचना दी.

वह तड़पता रहा

सूचना देने के बाद लोग इस यकीन के साथ यूपी क्00 का वेट करने लगे कि वह क्भ् मिनट के अंदर तो पहुंच ही जाएगी लेकिन गाड़ी काफी देर तक नहीं पहुंची. इधर रोड पर पड़े रिक्शा चालक के सिर और पैर से खून टपक रहा था. ब्लडिंग के चलते हालत बिगड़ती जा रही थी. वहां मौजूद दो युवकों ने अधेड़ को किसी तरह उठाकर बाइक पर बिठाया और जिला अस्पताल ले गए. इमरजेंसी में एडमिट करवाया. जहां डॉक्टर्स ने इलाज शुरू किया. उधर अन्य लोगों ने कार चालक को डीवीएनडीसी के पास पकड़ लिया.

बयान लेने पहुंची पुलिस

सिटी मॉल के पास एक्सीडेंट क्क् बजे हुआ लेकिन पुलिस क्क्.ब्0 पर जिला अस्पताल पहुंची. इससे पहले ही पब्लिक की मदद से रिक्शा चालक को इलाज मिल चुका था और और टक्कर मारने वाली गाड़ी भी पकड़ी जा चुकी थी. पुलिस ने रिक्शा चालक ने घटना के बारे में जानकारी ली.

इतनी गाडि़यां

क्9- सिटी एरिया में

ख्7- रुरल एरिया में

फ् - रिजर्व

कोट

बाइक से जरूरी काम के लिए सिटी मॉल की ओर जा रहा था. तिराहे पर काफी भीड़ देखी तो रुक गया. हादसे के बारे में पुलिस को सूचना दी जा चुकी थी लेकिन घायल के सिर से लगातार खून बह रहा था. क्08 नंबर पर डायल किया तो वह गाड़ी भी नहीं पहुंची. इसके बाद अपनी बाइक पर बिठाकर घायल को अस्पताल पहुंचाया.

गौतम पटेल, मोहद्दीपुर

यूपी क्00 को सूचना दी गई थी. ख्0 मिनट तक इंतजार किया गया. लेकिन जब घायल की हालत बिगड़ने लगी तो उसे पब्लिक ने खुद अस्पताल पहुंचाया. यदि पब्लिक सिर्फ पुलिस के भरोसे रहती और खुद अस्पताल न पहुंचाया होता तो रिक्शा चालक की जान तक जा सकती थी. मैंने रिक्शा चालक को इलाज के लिए अपने पास से क्00 रुपये भी दिए.

आशीष तिवारी, मोहद्दीपुर

--------

आंकड़े कहते हैं, न रहिए यूपी क्00 के भरोसे

फ्0 नवंबर- खजनी एरिया की छात्रा सिटी के एक इंटर कॉलेज की स्टूडेंट है. उससे छेड़खानी होने पर पिता ने केस दर्ज कराया तो आरोपियों ने घेर लिया. यूपी क्00 को सूचना दी गई तो मौके पर पहुंचे एसओ पीडि़त को ही धमकाने लगे कि हर बात में क्या पुलिस को फोन कर दोगे?

ख्8 नवंबर- गुलरिहा थाना क्षेत्र के भटहटल में डकैतों ने धावा बोला. रात में ही यूपी क्00 को सूचना दी गई लेकिन पुलिस नहीं पहुंची. बदमाशों ने कई लोगों को घायल कर दिया. पुलिस अगले दिन पहुंची.

ख्8 नंवबर- चिलुआताल एरिया में बदमाशों ने व्यापारी को बंधक बनाकर पीटा. दुकान में लूटपाट की. सूचना देने के के एक घंटे बाद मौके पर पुलिस पहुंची.

- ख्म् नवंबर- रात में तिवारीपुर के बुलाकीपुर में दो सगे भाइयों पर गोली चली. एक की मौत हो गई. सूचना के फ्0 मिनट बाद पुलिस पहुंची.

वर्जन